Binance Futures Trading Risk Control

1.1. These rules are designed to protect the rights and interests of Futures users on Binance by managing trading risks.

1.2. These rules apply to the Binance Futures trading service, which includes the trading of Futures contracts and other related products and offerings.

2. Risk Control

2.1. You should always be aware of Futures trading risks and adjust your position(s) and margin balance(s), if any, in time to minimize that risk. All of your margin balance may be liquidated in the event of extreme price movements. Please use trading strategies at your own discretion and risk. Binance shall not be liable for any loss that might arise from your use of Binance Futures.

2.3. Binance reserves the right to take appropriate measures based on, and not limited to, changes in the risk ratio. Risk control measures that may be used include, and are not limited to:

  • Implementing a “Reduce Only” restriction;
  • Adjusting the risk matrix according to the market situation;
  • Prohibiting transfers, trading, and other operations for high-risk users.

3. “Reduce Only” Trading Restrictions

Conditions for “Reduce Only” trading restrictions are set by a risk-control schedule. This schedule consists of the trading position size (“Open Positional Notional Value”) of a USDⓈ-M or COIN-M futures contract, the ratio of the position size in relation to the size of the contract, and the gap between the position’s liquidation price and the mark price.

Risk control measures are triggered when the gap between the position’s liquidation price and the mark price exceeds the risk-control schedule.

The system will automatically implement the “Reduce Only” risk control measures and you will be notified via email. Once this measure is implemented, you will only be able to reduce the position of the contract. You will not be able to increase your position or open new positions.

If both conditions described below are met, the "Reduce Only" trading limit will apply. For specific parameters, please refer to [Trading Rule] - [Reduce Only Trigger]. Please note that the parameter table will be updated from time to time according to market conditions​​:

  • The notional value of your position on the contract is greater than the trigger parameter. The proportion of the total position is greater than the trigger parameter. The notional value of the open position and total open position are calculated one-way;
  • The gap between the current position’s liquidation price and the mark price in the contract is less than the trigger parameter.

When any of the following two conditions are met, the system will automatically lift the “Reduce Only” trading restrictions on the contract within 10 minutes.

Please note that the below conditions of lifting “Reduce Only” are for reference only. Binance reserves the right to dynamically adjust the conditions according to market movement without prior notice to users in two situations:

म्‍यूचुअल फंड में अब 5 के बजाय होंगी 6 रिस्‍क कैटेगरी, जानिए क्‍या होगा फायदा

सेबी के नए नियम 1 जनवरी, 2021 से लागू हो जाएंगे. वैसे स्‍कीमें चाहें तो अपनी मर्जी से पहले भी इन दिशानिर्देशों को अपना सकती हैं.

photo2

सेबी ने इस बारे में एक सर्कुलर जारी किया है. इसमें रेगुलेटर ने कहा कि स्‍कीम की विशेषताओं के अनुसार, म्‍यूचुअल फंड उसे रिस्‍क लेवल असाइन करेंगे. यह काम स्‍कीम/न्‍यू फंड ऑफर लॉन्‍च करते वक्‍त करना है.

बाजार नियामक ने कहा है कि अगर रिस्‍को-ओ-मीटर में कोई बदलाव आता है तो इसके बारे में निवेशकों को बताना होगा. इसके लिए किसी खास स्‍कीम के यूनिटहोल्‍डर्स को ई-मेल या एसएमएस भेजा जा सकता है.

मासिक आधार पर रिस्‍क-ओ-मीटर का मूल्‍यांकन होगा. म्‍यूचुअल फंड कंपनियों को अपनी सभी स्‍कीमों के साथ रिस्‍क-ओ-मीटर की जानकारी अपनी और एम्‍फी की वेबसाइट पर देनी होगी. हर महीने के समाप्‍त होने से 10 दिन पहले इसका खुलासा करना जरूरी होगा.

सेबी ने कहा कि म्‍यूचुअल फंडों को रिस्‍क-ओ-मीटर में बदलाव को हर एक स्‍कीम के आधार पर टेबुलर फॉर्म में पब्लिश करने की जरूरत होगी. इन्‍हें अपनी एनुअल रिपोर्ट और अब्रिज्‍ड समरी में दिखाना होगा.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

निवेश से जुड़े जोखिम को समझिए इन 9 आसान टिप्स के जरिए

महंगाई आपके रिटर्न को चट कर जाती है. महंगाई को मात देने के लिए जीवन के किसी भी पड़ाव में आप इक्विटी से मुंह नहीं मोड़ सकते हैं.

photo (3)

हाल में आयोजित ET Wealth Investment Workshop में मणिकरण शिरकत करने पहुंचे थे. उन्होंने अलग-अलग तरह के निवेश इंस्ट्रूमेंट से जुड़े जोखिमों के बारे बताया. साथ ही इनसे निपटने के तरीके भी सुझाए.

1. मार्केट रिस्क : यह जोखिम शेयर बाजार की अस्थिरता से जुड़ा है. इसमें आपके निवेश के मूल्य को खतरा होता है. मणिकरण कहते हैं, "इस तरह के जोखिम से निपटने का सबसे आसान तरीका डायवर्सिफिकेशन है. अपनी जरूरत के अनुसार इक्विटी, डेट, गोल्ड, रियल एस्टेट जैसे अलग-अलग एसेट क्लास में अपने निवेश को डायवर्सिफाई किया जा सकता है."

2. इंफ्लेशन रिस्क : इंफ्लेशन यानी महंगाई को मणिकरण धीमा जहर करार देते हैं. महंगाई आपके रिटर्न को चट कर जाती है. महंगाई को मात देने के लिए जीवन के किसी भी पड़ाव में आप इक्विटी से मुंह नहीं मोड़ सकते हैं.

3. इंटरेस्ट रेट रिस्क : यह जोखिम ब्याज दरों में उतार-चढ़ाव के कारण क्या फ्यूचर्स हाई रिस्क हैं पैदा होता है. सिंघल मानते हैं कि डेट प्रोडक्टों को समझ लेने पर इस जोखिम को मैनेज किया जा सकता है. पीपीएफ के साथ भी ब्याज दर का जोखिम होता है. कारण है कि यह भी मार्केट से जुड़ा है.

4. करेंसी रिस्क : यह जोखिम अंतरराष्ट्रीय क्या फ्यूचर्स हाई रिस्क हैं निवेश से जुड़ा होता है. सिंघल ने कहा, "2017 में उन पोर्टफोलियो का रिटर्न अच्छा रहा जिनमें घरेलू फंडों के मुकाबले अमेरिकी इंटरनेशनल क्या फ्यूचर्स हाई रिस्क हैं फंड थे. जोखिम को कम करने के लिए इंटरनेशनल फंडों में निवेश किया जा सकता है. यह भारतीय रुपये के कारण निवेश में क्या फ्यूचर्स हाई रिस्क हैं होने वाली उठापटक के जोखिम से बचाने में मददगार होता है."

5. क्रेडिट रिस्क : IL&FS और DHFL जैसी ट्रिपल ए (एएए) रेटिंग क्या फ्यूचर्स हाई रिस्क हैं वाली कंपनियों के हालिया संकट के कारण यह जोखिम इन दिनों काफी चर्चित है. यह जोखिम आपको केवल तभी लेना चाहिए जब आप इसके नतीजों से वाकिफ हों.

6. सेक्टर रिस्क : जब आप किसी खास सेक्टर में निवेश करते हैं तो केंद्रीकरण यानी कॉन्सेन्ट्रेशन का जोखिम रहता है. इस जोखिम को कम करने के लिए तमाम सेक्टरों में निवेश को फैला देना चाहिए. सेक्टर रिस्क को कम करने के लिए म्यूचुअल फंडों का भी सहारा ले सकते हैं.

7. हेल्थ रिस्क/ज्यादा जीने का जोखिम : देश में चिकित्सा सुविधाएं तेजी से बढ़ रही हैं. इसने औसत उम्र में इजाफा किया है. सिंघल ने वर्कशॉप में हिस्सा लेने पहुंचे लोगों से सवाल किया, "मान लेते हैं कि आपने फाइनेंशियल प्लानिंग करते हुए माना कि 80 साल जीवित रहेंगे. लेकिन, तब क्या होगा अगर आप 90 साल जीते हैं? अतिरिक्त 10 सालों के लिए कौन भुगतान करेगा? क्या आप इसके लिए तैयार हैं?" फिर सिंघल ने खुद इसका जवाब दिया. कहा, "आपका हेल्थ इंश्योरेंस एक सीमा तक आपकी जरूरतों की देखभाल करता है. आपको एक हेल्थ प्लान बनाना चाहिए. इस जोखिम से नहीं बचा जा सकता है."

8. लाइफस्टाइल रिस्क : सिंघल ने कहा कि इन दिनों कई लोग अपने पड़ोसियों या दोस्तों से प्रभावित होते हैं. ये अपने बजट के अनुसार नहीं खर्च करते हैं. यह लाइफस्टाइल रिस्क है. ऐसा तब होता है, जब आप अपनी चादर से ज्यादा पांव फैलाते हैं. सिंघल कहते हैं कि फाइनेंशियल प्लानिंग बजट बनाने से शुरू होती है. जब आप बजट से चलते हैं तभी आपके पास निवेश के लिए पैसा बचता है. इसी से आप लाइफस्टाइल रिस्क को मैनेज कर सकते हैं.

9. व्यवहार से जुड़ा जोखिम : जब आप केवल रिटर्न की अपेक्षा के साथ निवेश करते हैं और नुकसान उठा बैठते हैं तो हतोत्साहित हो जाते हैं. तब आप निवेश को रोकने के बारे में सोचने लगते हैं. यही व्यवहार से जुड़ा जोखिम है. अपने रिस्क प्रोफाइल को समझकर इस तरह के जोखिम से बचा जा सकता है.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक क्या फ्यूचर्स हाई रिस्क हैं करने के लिए यहां क्लिक करें.

Best Age For Invest: किस उम्र में कितनी सेविंग? 35 साल के बाद बदल जाता है फॉर्मूला, ये है गणित.

What is the best age for investment?: सच है कि आप निवेश की शुरुआत कभी भी कर सकते हैं. लेकिन उम्र के हिसाब निवेश (Invest) की राशि, रिस्क (Risk), और पोर्टफोलियो (Portfolio) का आकार बदल जाता है.

निवेश का फॉर्मूला (Photo: File)

अमित कुमार दुबे

  • नई दिल्ली,
  • 07 दिसंबर 2022,
  • (अपडेटेड 07 दिसंबर 2022, 2:47 PM IST)

आज की तारीख में कोई 40 की उम्र में रिटायर (Retired) होना चाहता है तो कोई 50 में, कोई 60 की उम्र तक नौकरी का ख्याल मन में लेकर चलता है. लेकिन इन सबके बीच अधिकतर लोगों ऐसे होते हैं, जो रिटायरमेंट को लेकर समय रहते गंभीर नहीं होते हैं, और फिर बाद में पछताते हैं. रिटायरमेंट ही नहीं, अपने फ्यूचर प्लान को लेकर ऐसे लोग लापरवाह होते हैं. अच्छी कमाई के बावजूद एक रुपये नहीं बचा पाते हैं. क्योंकि वे सेविंग को गंभीरता से नहीं लेते हैं.

आइए आज हम आपको बताते हैं, किस उम्र में निवेश की शुरुआत (How to Investment) कर देना चाहिए. हालांकि ये सच है कि आप निवेश की शुरुआत कभी कर सकते हैं. लेकिन उम्र के हिसाब निवेश (Invest) की राशि, रिस्क (Risk), और पोर्टफोलियो (Portfolio) का आकार बदल जाता है. अक्सर लोग 25 की उम्र से जॉब शुरू कर देते हैं, कुछ लोग 30 तक शुरुआत करते हैं.

लेकिन क्या पहली नौकरी के साथ निवेश का पहला कदम बढ़ा देना चाहिए? किस उम्र में कितना निवेश करना चाहिए? क्या पारिवारिक बोझ आने के बाद ही निवेश शुरू करना चाहिए? वित्तीय जानकारों का कहना होता है कि प्राइवेट जॉब (Private Job) वालों को पहली नौकरी से निवेश के बारे में सोचना चाहिए. इसके दो फायदे हैं, पहला- कम उम्र में मोटी रकम जुटा लेंगे और दूसरा- जब कम उम्र से निवेश की शुरुआत करेंगे, तो निवेश के लिए वक्त ज्यादा मिल जाएगा, जिससे कम निवेश से भी बड़ा फंड बन जाएगा.

सही उम्र में निवेश बेहद जरूरी

उम्र 25 से 35 साल वालों के लिए ये फॉर्मूला.
इस उम्र में लोग जिंदादिल होते हैं. कम कमाते हैं. लेकिन बेफिक्र होकर खर्च करते हैं. यह जिंदगी का लुत्फ उठाने वाली उम्र है. इसलिए अधिकतर लोग इस उम्र में पैसे बचा नहीं पाते. जब बचा नहीं पाते हैं तो फिर सेविंग का सवाल ही नहीं उठता. लेकिन अगर इस उम्र से निवेश शुरू कर दें, तो फिर किसी भी वित्तीय लक्ष्य को आसानी से हासिल कर सकते हैं.

सम्बंधित ख़बरें

सैलरी को हाथ नहीं लगाएंगे, हर महीने वेतन के बराबर अलग से कमाई, समझें गणित
FDI पर भारी पड़े NRI, विदेश से पैसे भेजने में भारतीय सबसे आगे
देश में सबसे ज्यादा कहां के लोग हो रहे हैं अमीर? इस छोटे शहर ने मारी बाजी
सैलरी मिलते ही पहले करें ये काम, फिर वेतन के लिए नहीं गिनेंगे एक-एक दिन!
किन देशों में पलायन कर रहे भारतीय करोड़पति?

सम्बंधित ख़बरें

उदाहरण के तौर पर 25 साल का युवा हर महीने केवल 2000 रुपये का SIP करता है, और यह सिलसिला 60 की उम्र तक जारी रहता है तो फिर उसके पास 1 करोड़ 35 लाख रुपये जमा हो जाएंगे. यह आकलन 12 फीसदी ब्याज पर आधारित है. जबकि इससे भी ज्यादा पैसे बनाए जा सकते हैं.

इसलिए 25 से 35 साल की उम्र वालों के लिए रिटायरमेंट पर 2 करोड़ रुपये पाने के लिए रास्ता बेहद आसान होता है. 35 साल वाले को हर महीने केवल 10 हजार के निवेश पर 2 करोड़ रुपये मिल सकता है. जबकि 25 साल वाले तो केवल क्या फ्यूचर्स हाई रिस्क हैं 3 हजार महीने की SIP पर 60 साल के बाद 2 करोड़ रुपये जुटा लेंगे. कल्पना कीजिए अगर कोई 25 साल की उम्र से ही हर महीने 10 हजार रुपये की SIP शुरू कर दे तो 60 की उम्र में करीब 5 करोड़ रुपये जुटा लेंगे. क्योंकि 25 साल के युवा को 35 साल तक निवेश का मौका मिल जाएगा, चक्रवृद्धि ब्याज की वजह से 35 साल में बड़ा फंड हासिल हो जाएगा.

35 से 50 वर्ष के लोगों के लिए ये नियम.
35 वर्ष की उम्र तक अधिकतर लोग सेटल हो क्या फ्यूचर्स हाई रिस्क हैं चुके होते हैं. इस उम्र में लोग अपने लक्ष्य (Target) को गंभीर हो जाते हैं. घर, गाड़ी, रिटायरमेंट, बच्चों की पढ़ाई और उसकी शादी जैसी जिम्मेदारियां आ जाती हैं. ऐसे में उन्हें कम समय में ज्यादा पैसा चाहिए होता है. अगर किसी की उम्र 40 साल है तो फिर उसे अगले 20 साल में इतने पैसे चाहिए कि हर जरूरतें पूरी हो सके. ऐसे में एक ही रास्ता है मोटा निवेश. केवल 5-10 हजार रुपये महीने निवेश कर सभी गोल हासिल नहीं हो सकते. साथ ही इस उम्र में रिस्क लेने की क्षमता भी कम हो जाती है.

अगर कोई 40 साल की उम्र से SIP शुरू करता है फिर 60 साल की उम्र में 2 करोड़ रुपये पाने के लिए उन्हें हर महीने कम से कम 20 हजार रुपये की SIP करनी होगी. 45 साल वाले को हर महीने 40 हजार रुपये जमा करने होंगे, जो इस उम्र में थोड़ा मुश्किल हो जाता है. वहीं अगर कोई 10 साल में कोई 2 करोड़ रुपये जुटाना चाहता है तो उसके लिए उसे हर माह 90 हजार की SIP करनी होगी, जो कि हर किसी के लिए संभव नहीं है. यह आंकलन 12 फीसदी ब्याज पर आधारित है. इसलिए निवेश के लिए सही उम्र 25 से 35 साल ही है. इस उम्र में बिना बोझ छोटी राशि जमा कर आप रिटायरमेंट पर मोटी फंड जुटा सकते हैं.

निवेश के लिए केवल SIP को ही नहीं चुनें. सारा पैसा कहीं एक स्थान पर लगाने की बजाए कई अलग-अलग स्थानों पर लगाएं. पोर्टफोलियो डाइवर्सिफाइड करके जोखिम को घटा सकते हैं. कुछ लोग आज के दौर में सीधे इक्विटी मार्केट (Equity Market) में पैसे लगाते हैं, जिसमें रिटर्न की उम्मीद ज्यादा होती है. लेकिन यहां जोखिम भी अधिक रहता है.

(नोट: शेयर बाजार, म्यूचुअल फंड में निवेश से पहले वित्तीय सलाहकार की मदद जरूर लें.)

रेटिंग: 4.56
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 448