जैसा कि, हम नीचे दी गई तालिका से देख सकते हैं कि क्रिप्टो मालिकों के विशाल आधार के बावजूद, भारत क्रिप्टो मालिकों के मामले में कुल जनसंख्या के प्रतिशत के रूप में 7.30 प्रतिशत के रूप में पांचवें स्थान पर है. यूक्रेन इस सूची में पहले स्थान पर है, जिसमें क्रिप्टो के मालिक कुल जनसंख्या का 12.73 प्रतिशत है, इसके बाद रूस का स्थान है.

अब आपके गैस सिलेंडर पर होगा QR Code, ऐसे करेगा ये काम और मिलेंगे ये फायदे

Bitcoin Vs Ethereum: क्या आने वाले समय में बिटकॉइन को पीछे छोड़ देगी इथेरियम? विस्तार से जानिए

इस बात में कोई शक नहीं है कि बिटकॉइन (Bitcoin) सबसे पुरानी और सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी (Crypto Currency)है। हालांकि लोकप्रियता के मामले में इसके बाद जो क्रिप्टोकरेंसी आती है, वो इथेरियम (Ethereum) है। बिटकॉइन और इथेरियम के तकनीकी इंफ्रास्ट्रक्चर में काफी अंतर है और इसी अतंर की वजह से कइयों का मानना है कि Ethereum आने वाले समय में कीमत और मार्केट कैपिटलाइजेशन दोनों के मामले में बिटकॉइन को पीछे छोड़ सकती है।

20 अक्टूबर 2021 को Bitcoin का मार्केट कैपिटलाइजेशन 1.2 लाख करोड़ रुपये था। वहीं Ethereum का मार्केट कैप 455 अरब डॉलर था। एक्सपर्ट्स का मानना है कि सिर्फ Ethereum ही इकलौती करेंसी है, जिसके पास Bitcoin के मार्केट कैप से आगे निकलने की क्षमता है। आइए इसे विस्तार से समझते हैं:

संबंधित खबरें

Aditya Birla Group बेच रहा अपनी इंश्योरेंस-ब्रोकरेज इकाई? बाजार ने दिया निगेटिव रिस्पांस

Tata Motors के बोर्ड ने IPO के जरिए Tata Technologies में अपनी हिस्सेदारी बेचने को दी सैद्धांतिक मंजूरी

Jaypee Group के एसेट्स खरीदेगी Dalmia Bharat, 5666 करोड़ में हुआ सौदा, दोनों ही कंपनियों को होगा ये बड़ा फायदा

इथेरियम करेंसी और ETH ब्लॉकचेन एक दूसरे के पूरक हैं और यह नेटवर्क पर ट्रांजैक्शन की लागत को कम करके करेंसी की ग्रोथ में मदद करती है। इस प्रक्रिया में, टोकन की कीमत बढ़ जाती है। आसान शब्दों में कहें तो इथेरियम अपने प्लेटफॉर्म के जरिए दुनिया भर में पेमेंट्स ट्रांजैक्शन को आसान और सरल बनाती है।

बिटकॉइन बनाम इथेरियम
एक साल पहले 20 अक्टूबर 2020 को बिटकॉइन की कीमत 11,913 डॉलर थी, जो 20 अप्रैल 2021 को बढ़कर 56,483 डॉलर और 20 अक्टूबर 2021 को यह बढ़कर 63,995 डॉलर हो गई है। इस तरह पिछले 6 महीनों बिटकॉइन मूल्य अंतर क्या है में बिटकॉइन की कीमत में 374 प्रतिशत की उछाल आई है, जबकि पिछले एक साल में इसकी कीमत 437 प्रतिशत बढ़ी है।

क्या खत्म हो गई क्रिप्टोकरेंसी की चमक, जल्द ही 25% और गिर सकता है बिटकॉइन

क्या खत्म हो गई क्रिप्टोकरेंसी की चमक, जल्द ही 25% और गिर सकता है बिटकॉइन

अगर आप आने वाले दिनों में Cryptocurrency में निवेश करने की सोच रहे हैं, तो अब आपको एक बार दोबारा सोच लेने की जरूरत है. ज्यादातर क्रिप्टोकरेंसी में मौजूदा समय में गिरावट जारी है. इसके साथ ही आने वाले दिनों में भी Bitcoin में 25 फीसदी की गिरावट आ सकती है. इसके पीछे वजह बड़े बिटकॉइन मूल्य अंतर क्या है क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज FTX और उससे जुड़ी ट्रेडिंग कंपनी Alemada रिसर्च का पूरी तरह ढह जाना है.

बिटकॉइन के निवेशकों हो जाएं सावधान

जेपी मॉर्गन के विश्लेषकों का कहना है कि बिटकॉइन में आगे 25 फीसदी की और गिरावट देखी जा सकती है. उसने बिटकॉइन के निवेशकों के लिए चेतावनी जारी कर दी है. जानकारों का कहना है कि इस साल क्रिप्टो से जुड़े लगातार संकटों ने बिटकॉइन की कीमत को इस स्थिति तक पहुंचाया है. उनके मुताबिक, इससे बिटकॉइन की कीमत 13,000 डॉलर के निचले स्तर तक पहुंच सकती है.बिटकॉइन मूल्य अंतर क्या है

ये भी पढ़ें

रूस के तेल की मूल्य सीमा तय करने पर बोले पेट्रोलियम मंत्री, दबाव में नहीं भारत सरकार

रूस के तेल की मूल्य सीमा तय करने पर बोले पेट्रोलियम मंत्री, दबाव में नहीं भारत सरकार

देश की आर्थिक हालात पर नजर रखें बैंक्स, RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने दी सलाह

देश की आर्थिक हालात पर नजर रखें बैंक्स, RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने दी सलाह

लुढ़का Paytm का स्टॉक, एक घंटे में डूबी 10 प्रतिशत रकम, क्यों आई गिरावट?

Bitcoin Price India INR: बिटक्वाइन में फिर आई तेजी, 50 लाख रुपये के करीब पहुंची कीमत

बिटक्वाइन प्राइस टुडे

दुनियाभर में बिटक्वाइन का वर्चस्व बढ़ रहा है। बिटक्वाइन एक आभासी मुद्रा है, जिसका इस्तेमाल केवल ऑनलाइन लेनदेन के लिए किया जाता है। बिटक्वाइन के मूल्यों में भारी उतार-चढ़ाव के कारण अक्सर यह सवाल उठता है कि क्या एक मुद्रा के रूप में कार्य करने में यह सक्षम है। दुनिया की सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी बिटक्वाइन की आज की कीमत 61,885.40 डॉलर (49,24,333 रुपये) के करीब है।

और कितना बढ़ेगा बिटक्वाइन का दाम?
विश्लेषकों के अनुमान के बिटकॉइन मूल्य अंतर क्या है अनुसार, अगले महीने के अंत तक बिटक्वाइन दोबारा अपने 64000 डॉलर यानी 48,00,000 रुपये के उच्चतम स्तर पर पहुंच सकता है। नवंबर में यह 98000 डॉलर (73,50,000 रुपये) का स्तर छू सकता है और दिसंबर में यह दोबारा रिकॉर्ड तोड़कर एक लाख डॉलर यानी करीब 75 लाख रुपये पर पहुंच जाएगा। साल 2021 के अंत तक इसकी कीमत 1,35,000 डॉलर (1,01,25,000 रुपये) तक पहुंच जाएगी, जो मौजूदा कीमत से लगभग तीन गुना ऊपर है।

विस्तार

दुनियाभर में बिटक्वाइन का वर्चस्व बढ़ रहा है। बिटक्वाइन एक आभासी मुद्रा है, जिसका इस्तेमाल केवल ऑनलाइन लेनदेन के लिए किया जाता है। बिटक्वाइन के मूल्यों में भारी उतार-चढ़ाव के कारण अक्सर यह सवाल उठता है कि क्या एक मुद्रा के रूप में कार्य करने में यह सक्षम है। दुनिया की सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी बिटक्वाइन की आज की कीमत 61,885.40 डॉलर (49,24,333 रुपये) के करीब है।

और कितना बढ़ेगा बिटक्वाइन का दाम?
विश्लेषकों के अनुमान के अनुसार, अगले महीने के अंत तक बिटक्वाइन दोबारा अपने 64000 डॉलर यानी 48,00,000 रुपये के उच्चतम स्तर पर पहुंच सकता है। नवंबर में यह 98000 डॉलर (73,50,000 रुपये) का स्तर छू सकता है और दिसंबर में यह दोबारा रिकॉर्ड तोड़कर एक लाख डॉलर यानी करीब 75 लाख रुपये पर पहुंच जाएगा। साल 2021 के अंत तक इसकी कीमत 1,35,000 डॉलर (1,01,25,000 रुपये) तक पहुंच जाएगी, जो मौजूदा कीमत से लगभग तीन गुना ऊपर है।

Cryptocurrency Rate Today 7 November: क्रिप्टोकरेंसी के दाम गिरे, बिटकॉइन 21,000 डॉलर से नीचे फिसली, इथेरियम भी टूटी

By: ABP Live | Updated at : 07 Nov 2022 03:30 PM (IST)

Edited By: Meenakshi

क्रिप्टोकेरेंसी (फाइल फोटो)

Cryptocurrency Rate Today 7 November: क्रिप्टोकरेंसी के बाजार में आज ज्यादा उत्साह नहीं देखा जा रहा है और सप्ताह के आखिर में दिखी तेजी आज गायब हो गई है. एशियाई बाजारों में क्रिप्टो की गिरावट से समूचा क्रिप्टोकरेंसी मार्केट आज लाल निशान में नजर आ रहा है. हालांकि सप्ताह के अंत में दिखी बिटकॉइन मूल्य अंतर क्या है तेजी के दम पर क्रिप्टोकेरेंसी के बाजार का मार्केट कैप 1 खरब डॉलर से ऊपर ही बना हुआ है. आज शुरुआती कारोबार में ही बिटकॉइन 21,000 डॉलर के नीचे फिसल गई थी और इथेरियम भी अपना 1600 डॉलर का स्तर बरकरार नहीं रख पाया था.

बिटकॉइन के दाम जानें
आज बिटकॉइन के दाम 20,748.26 डॉलर पर हैं और इसमें 2.51 फीसदी की गिरावट दर्ज की जा रही है. वहीं इसका मार्केट कैप 398,381,552,535 डॉलर पर बना हुआ है.

क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) डिसेंट्रलाइज्ड है और भारत में किसी भी नियामक प्राधिकरण द्वारा अनुमोदित नहीं की गई है. च . अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated : December 02, 2021, 13:03 IST

Cryptocurrency News Today: भारत में इन दिनों क्रिप्टोकरेंसी को लेकर खूब घमासान मचा हुआ है. दुनिया में सबसे ज्यादा भारत में क्रिप्टो का कारोबार होने के बाद इस डिजिटल करेंसी (Digital Currency) को लेकर ऊहापोह की स्थिति बनी हुई है. सरकार इसे असुरक्षित मानते हुए इसके नियमन को लेकर संसद में बिल लाने की तैयारी कर रही है. लेकिन क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) के बढ़ते चलन को देखते बिटकॉइन मूल्य अंतर क्या है हुए सरकार खुद अपनी डिजिटल करेंसी सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC) लाने की कवायद में जुटी हुई है.

आखिर क्यों है क्रिप्टो पर इतना विवाद और क्या है सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC), इन मुद्दों पर विस्तार से बात कर रही हैं फाइनेंशियल एडवाइजर ममता गोदियाल. ममता गोदियाल (Mamta Godiyal) का बैंकिंग सेक्टर में लंबा अनुभव रहा है. अब वह निजी तौर पर पर्सनल फाइनेंस को लेकर लोगों को खासकर महिलाओं को जागरुक कर रही हैं. क्रिप्टोकरेंसी को लेकर उनसे लंबी चर्चा हुई. बातचीत में उन्होंने क्रिप्टोकरेंसी और भारत सरकार की सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी के बारे में कई पहलुओं पर रोशनी डाली.

रेटिंग: 4.35
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 364