डेटा सफाई – सही परिणाम उत्पन्न करने के लिए डेटा गुणवत्ता में सुधार करें और गलत निष्कर्ष निकालने से बचें; प्रक्रिया को स्वचालित करें लेकिन आधारभूत विश्लेषण क्या है? कर्मचारियों को डेटा की सफाई की निगरानी करने और सटीकता सुनिश्चित करने के लिए शामिल करें।

डाटा एनालिसिस क्या है? प्रकार और जानकारी

डाटा एनालिसिस data analysis in hindi

डाटा एनालिसिस का लक्ष्य एक्शनएब्ल इनसाइट्स को ढूंढना है जो निर्णय लेने को सूचित कर सकता है। डाटा विश्लेषण में डाटा माइनिंग, डिस्क्रिप्टिव और प्रेडिक्टिव एनालिसिस, सांख्यिकीय एनालिसिस, बिजनेस एनालिसिस आधारभूत विश्लेषण क्या है? और बड़े डाटा एनालिसिस शामिल हो सकते हैं।

डाटा एनालिसिस क्या है? (data analysis definition in hindi)

अगर आसान भाषा में समझें तो “वो सभी तरीके जिससे आप डेटा को तोड़ सकते हैं, समय के साथ रुझान का आकलन कर सकते हैं, और एक सेक्टर या माप को दूसरे की तुलना कर सकते हैं।

इसमें एक नज़र में ट्रेंड्स और रिलेशनशिप्स को सहज बनाने के लिए डेटा को देखने के विभिन्न तरीकों को भी शामिल किया जा सकता है”।

डाटा विश्लेषण में क्या हुआ, क्या हो रहा है, और क्या होगा (प्रेडिक्टिव एनालिसिस) के बारे में प्रश्न पूछना भी शामिल है।

डाटा एनालिसिस के प्रकार (types of data analysis in hindi)

  • डिस्क्रिप्टिव एनालिसिस बताता है कि किसी निश्चित अवधि में क्या हुआ है।

उदाहरण: क्या विचारों की संख्या बढ़ गई है? पिछले महीने की तुलना में बिक्री मजबूत है? इत्यादि।

  • डायग्नोस्टिक एनालिटिक्स कुछ और क्यों हुआ पर केंद्रित है। इसमें अधिक डाइवर्स डेटा इनपुट और कुछ अनुमान लगाया जाता है।

उदाहरण: क्या मौसम बीयर की बिक्री को प्रभावित करता है? क्या वह नवीनतम मार्केटिंग अभियान बिक्री पर असर पड़ा? आदि।

  • प्रेडिक्टिव एनालिटिक्स निकट भविष्य में होने वाली संभावनाओं के लिए आगे बढ़ती है।

उदाहरण: आखिरी बार गर्मियों में गर्मियों में बिक्री के साथ क्या हुआ? कितने मौसम मॉडल इस वर्ष गर्म गर्मी की भविष्यवाणी करते हैं?

डाटा एनालिसिस के मॉडल्स (models of data analysis in hindi)

उद्देश्यों पर निर्णय लें – डेटा साइंस टीमों के लिए उद्देश्यों को निर्धारित करें कि यह निर्धारित करने के लिए कि क्या व्यापार अपने लक्ष्यों की ओर बढ़ रहा है; जल्दी मेट्रिक्स या परफॉरमेंस इंडिकेटर की पहचान करें।

बिजनेस लीवर की पहचान करें – आंकड़ों के विश्लेषण के लिए डेटा एनालिसिस परियोजनाओं में लक्ष्यों, मीट्रिक और लीवर की पहचान करें ताकि डेटा विश्लेषण पर दायरा बढ़ाया और ध्यान दिया जा सके; इसका मतलब है कि बिजनेस को अपनी महत्वपूर्ण मीट्रिक आधारभूत विश्लेषण क्या है? में सुधार करने और इसके लक्ष्यों तक पहुंचने के लिए बदलाव करने के लिए तैयार होना चाहिए।

डाटा संग्रह – बेहतर मॉडल बनाने और अधिक क्रियाशील अंतर्दृष्टि प्राप्त करने के लिए विभिन्न स्रोतों से जितना संभव हो उतना डेटा इकट्ठा करें।

आज़ादी आधारभूत विश्लेषण क्या है? के 75 साल: ‘नामांकन की प्रगति को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के माध्यम से सफल बनाने की है जरूरत’

सर्वे पर आधारित लेख: कोविड-19 के दौर में ऑनलाइन पढ़ाई की ज़मीनी वास्तविकता क्या थी?

हमारे देश की सरकारी प्राथमिक शिक्षा प्रणाली पर विगत एक दशकों से भी अधिक समय से प्रश्न चिन्ह उठाए जाते रहे हैं। प्रथम संस्था और असर की सालाना रिपोर्टें अपने अध्ययन और आंकड़ों के आधार पर यह स्थापित करती रही हैं कि किसी विशेष दर्जे में पढ़ रहा बच्चा अपनी वर्तमान कक्षा के एक या दो स्तर निचली कक्षा की विषय वस्तु को समझ के साथ पढ़ने, अभिव्यक्त करने के बुनियादी भाषायी कौशल को प्राप्त नहीं कर सका है, और यही बात गणित विषय की बुनियादी दक्षताओं के बारे में भी सही है।

#FLN एक मिशन है

अपनी बात को आगे जारी रखने से पहले यहीं पर यह कहना बहुत जरुरी लगता है कि इसे एक मिशन कहा गया है। मिशन का सामान्य मकसद होता है कि लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए क्या-क्या किया जाएगा? जिससे मिशन के पूरा होने पर मुख्य विज़न को प्राप्त किया जा सके और यह मुख्य विज़न है, शिक्षा के व्यापक लक्ष्यों को प्राप्त करना।

सामान्यतः शिक्षा का व्यापक लक्ष्य हैं बच्चों में संविधानिक मूल्यों का बीजारोपण करके, समाज के एक जिम्मेदार एवं उपयोगी नागरिक की भूमिका निर्वहन के लिए तैयार करना। इसके लिए भाषायी कौशलों, गणितीय दक्षताओं, वैज्ञानिक एवं सामाजिक कौशलों की जरुरत होगी।

इन कौशलों को प्राप्त करने के लिए आधारभूत साक्षरता और संख्या सम्बन्धी दक्षता की जरुरत होती है, बल्कि इसी आधारभूमि पर अन्य कौशलों को प्राप्त करना निर्भऱ करता है। इसमें कोई संदेह नहीं कि बच्चे के स्कूल की शुरूआती कक्षाओं में आधारभूत साक्षरता और संख्या सम्बन्धी दक्षताओं पर काम किया जाना चाहिए। इसके लिए वर्तमान हालात पर नज़र डालने से हमें जरुरी आधारभूत विश्लेषण क्या है? गंभीर प्रयासों का अंदाजा लग सकता है।

What Is Swot Analysis In Hindi? - Swot Analysis क्या है?

Swot Analysis याने स्वॉट विश्लेषण यह एक तकनीक है, जिसका उपयोग व्यक्ति, संगठन, व्यावसायिक, शैक्षणिक समुदाय या प्रकल्प में प्रतिस्पर्धा या परियोजना नियोजन से संबंधित Strength(ताकत ), Weaknesses(कमजोरी), Opportunities(अवसर) और Threats(खतरा) को मूल्यांकन करने, उजागर करने और पहचानने के लिए किया जाता है।

स्वॉट विश्लेषण तकनीक से हम व्यक्ति, संगठन, व्यवसाय या किसी भी शैक्षणिक समुदाय के आंतरिक और बाहरी विचारों, घटकों या कारकों के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है, जिससे उनका मूल्यांकन करने में हमें आसानी होती है। इसके अनुसार हम अपने दोष को सुधारने के लिए नए नए तंत्र और प्रक्रिया को उजागर कर सकते हैं, और आप अपने आप को आंतरिक चुनौतियों और बाहरी अवसरों के लिये तैयार करते हैं।

SWOT Analysis Full Form

Swot Full Form: Strengths, Weaknesses, Opportunities, and Threats analysis

Swot आधारभूत विश्लेषण क्या है? Analysis के उद्देश्य - Internal and external factors

स्वॉट एनालिसिस याने स्वॉट विश्लेषण का उद्देश्य आंतरिक और बाह्य कारकों की पहचान करना है, जो किसी भी संस्था या संगठन को लक्ष्य प्राप्त करने के लिए महत्वपूर्ण होता हैं। यह स्वॉट विश्लेषण संस्था, संगठन या व्यवसाय की मूल्य श्रृंखला के भीतर से आते हैं।

SWOT समूह दो मुख्य श्रेणियों में डाले जाते हैं, जो 'Internal factors(आंतरिक कारक)' और 'External factors(बाह्य कारक)' है:

  • Internal factors (आंतरिक कारक): शक्तियां और कमजोरियां जो एक संगठन के लिए आंतरिक है।
  • External factors (बाह्य कारक): बाहरी वातावरण द्वारा प्रस्तुत अवसर, चुनौतियाँ और खतरे।

संस्था, संगठन, व्यावसायिक, शैक्षणिक समुदाय या प्रकल्प के उद्देश्यों और उनके प्रभाव के आधार पर आंतरिक कारकों को शक्ति या कमजोरियों के रूप में देखा जा सकता है। इन कारकों में कर्मचारी वर्ग, वित्तीय, विनिर्माण क्षमताएं और कई अन्य भी शामिल हो सकते हैं। बाह्य कारकों में सामाजिक और सांस्कृतिक परिवर्तन, व्यापक आर्थिक मामले, तकनीकी बदलाव, विधान के साथ ही साथ बाजार एवं प्रतियोगी स्थिति में परिवर्तन शामिल हो सकते हैं।

SWOT Anyalsis कैसे लागु करे?

  • SWOT विश्लेषण के उद्देश्य पर निर्णय लें।
  • अपने संस्था के लिए जोखिम प्रबंधन योजना तैयार करने का तरीका जानें।
  • अपने संगठन, व्यवसाय, उद्योग आधारभूत विश्लेषण क्या है? और बाजार पर शोध करें।
  • व्यवसाय की खूबियों को सूचीबद्ध करें।
  • अपने संगठन, व्यवसाय, उद्योग की कमजोरियों को सूचीबद्ध करें।
  • संभावित अवसरों की सूची बनाएं।
  • संभावित खतरों की सूची बनाएं।
  • SWOT में मुद्दों को हल करने के लिए एक रणनीति विकसित करें।

Swot Analysis याने स्वॉट विश्लेषण यह संस्था, संगठन, व्यावसायिक, शैक्षणिक समुदाय या प्रकल्प को अपने लक्ष्यों को हासिल करने में और योग्य बनाने के लिए, रणनीति और योजनाओं को विकसित करने के एक हिस्से के रूप में काम करता है और यह तकनीक पर्यावरण और व्यापार कारकों को विश्लेषण और मूल्यांकन के लिए एक आधार के रूप में उपयोग किया जा सकता है।

Swot Analysis के लिए अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न - FAQ

1. स्वॉट विश्लेषण क्या है?
Swot analysis या स्वॉट विश्लेषण एक रणनितिक योजना है जो व्यवसाय और संगठन के विपणन और प्रबंधन के लिए काफी उपयोगी होती है।

2. स्वॉट विश्लेषण का क्या उपयोग है?
स्वॉट विश्लेषण (SWOT Analysis) का उपयोग किसी भी प्रकार के संगठन आधारभूत विश्लेषण क्या है? के सामर्थ्य, कमजोरियों, अवसरों और खतरों का मूल्यांकन करने, प्रकाश डालने और पहचान करने के लिए किया जाता है।

3. Swot का क्या अर्थ है?
Swot का अर्थ S: Strength (ताकत, सामर्थ्य), W: Weaknesses (कमजोरी), O: Opportunities (अवसर), T: Threats (खतरा) होता है, और यह SWOT Analysis शब्द 1960 के दशक में अल्बर्ट हम्फ्री द्वारा गढ़ा गया था।

4. स्वॉट विश्लेषण को कैसे लागु करे?
स्वॉट विश्लेषण के उद्देश्य पर निर्णय लें, संगठन, व्यवसाय, उद्योग और बाजार पर शोध करें, व्यवसाय की खूबियों और कमजोरियों को सूचीबद्ध करें, संभावित अवसरों और खतरों की सूची बनाएं और Swot तकनीक में इन मुद्दों को हल करने के लिए एक रणनीति बनाये।

रेटिंग: 4.22
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 306