Exchange Trade Fund (ETF) क्या है?

एक एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड एक प्रकार का निवेश फंड और एक्सचेंज-ट्रेडेड उत्पाद है, यानी स्टॉक एक्सचेंजों पर इनका कारोबार होता है। ईटीएफ कई मायनों में म्यूचुअल फंड के समान हैं, सिवाय इसके कि ईटीएफ पूरे दिन स्टॉक एक्सचेंजों में खरीदे और बेचे जाते हैं जबकि म्यूचुअल फंड दिन के अंत में उनकी कीमत के आधार पर खरीदे और बेचे जाते हैं।

ईटीएफ क्या है? [What is ETF काम कैसे करता है? Exchange Trade Fund? In Hindi]

एक एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) एक प्रकार की सुरक्षा है जो एक इंडेक्स, सेक्टर, कमोडिटी या अन्य संपत्ति को ट्रैक करता है, लेकिन जिसे स्टॉक एक्सचेंज में नियमित स्टॉक के समान खरीदा या बेचा जा सकता है। किसी व्यक्तिगत वस्तु की कीमत से लेकर प्रतिभूतियों के बड़े और विविध संग्रह तक कुछ भी ट्रैक करने के लिए एक ईटीएफ को संरचित किया जा सकता है। ईटीएफ को विशिष्ट निवेश रणनीतियों को ट्रैक करने के लिए भी संरचित किया जा सकता है।

एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ETF) कैसे काम करते हैं? [How do Exchange Traded Funds (ETFs) work? In Hindi]

ईटीएफ शेयरों और म्यूचुअल फंड दोनों की विशिष्ट विशेषताएं साझा करते हैं। वे आम तौर पर शेयर बाजार में सृजन ब्लॉकों के माध्यम से उत्पादित शेयरों के रूप में कारोबार करते हैं। ईटीएफ फंड सभी प्रमुख स्टॉक एक्सचेंजों में सूचीबद्ध हैं और इक्विटी ट्रेडिंग समय के दौरान आवश्यकता के अनुसार खरीदे और बेचे जा सकते हैं। Equated Monthly Installment (EMI) क्या है?

ईटीएफ के शेयर की कीमत में बदलाव संसाधनों के पूल में मौजूद अंतर्निहित परिसंपत्तियों की लागत पर निर्भर करता है। यदि एक या अधिक संपत्ति की कीमत बढ़ती है, तो ईटीएफ का शेयर मूल्य आनुपातिक रूप से बढ़ता है, और इसके विपरीत।

Exchange Trade Fund (ETF) क्या है?

ईटीएफ के शेयरधारकों द्वारा प्राप्त लाभांश का मूल्य संबंधित ईटीएफ कंपनी के प्रदर्शन और परिसंपत्ति प्रबंधन पर निर्भर करता है।

कंपनी के मानदंडों के अनुसार उन्हें सक्रिय या निष्क्रिय रूप से प्रबंधित किया जा सकता है। सक्रिय रूप से प्रबंधित ईटीएफ एक पोर्टफोलियो प्रबंधक द्वारा संचालित होते हैं, शेयर बाजार की स्थितियों का सावधानीपूर्वक आकलन करने और उच्च क्षमता वाली कंपनियों में निवेश करके एक परिकलित जोखिम लेने के बाद। दूसरी ओर, निष्क्रिय रूप से प्रबंधित ईटीएफ, विशिष्ट बाजार सूचकांकों के रुझानों का पालन करते हैं, केवल उन कंपनियों में निवेश करते हैं जो बढ़ते चार्ट पर सूचीबद्ध हैं।

ईटीएफ के प्रकार [Type of ETF (Exchange Traded Fund)? In Hindi]

निवेशकों के लिए विभिन्न प्रकार के ईटीएफ उपलब्ध हैं जिनका उपयोग आय सृजन, सट्टा, मूल्य वृद्धि और निवेशक के पोर्टफोलियो में जोखिम को हेज या आंशिक रूप से ऑफसेट करने के लिए किया जा सकता है। आज बाजार में उपलब्ध कुछ ईटीएफ का संक्षिप्त विवरण यहां दिया गया है।

  • बॉन्ड ईटीएफ [Bond ETF]

बॉन्ड ईटीएफ का उपयोग निवेशकों को नियमित आय प्रदान करने के लिए किया जाता है। उनका आय वितरण अंतर्निहित बांडों के प्रदर्शन पर निर्भर करता है। इनमें सरकारी बॉन्ड, कॉरपोरेट बॉन्ड और राज्य और स्थानीय बॉन्ड शामिल हो सकते हैं - जिन्हें म्युनिसिपल बॉन्ड कहा जाता है। उनके अंतर्निहित उपकरणों के विपरीत, बॉन्ड ईटीएफ की परिपक्वता तिथि नहीं होती है। वे आम तौर पर वास्तविक बांड मूल्य पर प्रीमियम या छूट पर व्यापार करते हैं।

  • स्टॉक ईटीएफ [Stock ETF]

स्टॉक ईटीएफ में एकल उद्योग या क्षेत्रों को ट्रैक करने के लिए स्टॉक की एक Basket शामिल होती है। उदाहरण के लिए, स्टॉक ईटीएफ ऑटोमोटिव या विदेशी शेयरों को ट्रैक कर सकता है। इसका उद्देश्य एकल उद्योग को विविधतापूर्ण एक्सपोजर प्रदान करना है, जिसमें उच्च प्रदर्शन करने वाले और विकास की संभावना वाले नए प्रवेशकर्ता शामिल हों। स्टॉक म्यूचुअल फंड के विपरीत, स्टॉक ईटीएफ की फीस कम होती है और इसमें प्रतिभूतियों का वास्तविक स्वामित्व शामिल नहीं होता है। Ease of Doing Business क्या है?

  • उद्योग ईटीएफ [Industry ETF]

उद्योग या क्षेत्र ईटीएफ ऐसे फंड हैं जो किसी विशिष्ट क्षेत्र या उद्योग पर ध्यान केंद्रित करते हैं। उदाहरण के लिए, एक ऊर्जा क्षेत्र ईटीएफ में उस क्षेत्र में काम करने वाली कंपनियां शामिल होंगी। उद्योग ईटीएफ के पीछे का विचार उस क्षेत्र में काम कर रही कंपनियों के प्रदर्शन को ट्रैक करके उस उद्योग के ऊपर की तरफ एक्सपोजर हासिल करना है। एक उदाहरण प्रौद्योगिकी क्षेत्र है, जिसने हाल के दिनों में धन की आमद देखी है। साथ ही, ईटीएफ में अस्थिर स्टॉक प्रदर्शन के नकारात्मक पक्ष को भी कम किया जाता है क्योंकि उनमें प्रतिभूतियों का प्रत्यक्ष स्वामित्व शामिल नहीं होता है। उद्योग ईटीएफ का उपयोग आर्थिक चक्रों के दौरान क्षेत्रों में और बाहर घूमने के लिए भी किया जाता है।

  • कमोडिटी ईटीएफ [Commodity ETF]

जैसा कि उनके नाम से संकेत मिलता है, कमोडिटी ईटीएफ कच्चे तेल या सोने सहित वस्तुओं में निवेश करते हैं। कमोडिटी ईटीएफ कई लाभ प्रदान करते हैं। सबसे पहले, वे एक पोर्टफोलियो में विविधता लाते हैं, जिससे मंदी से बचाव करना आसान हो जाता है। उदाहरण के लिए, कमोडिटी ईटीएफ शेयर बाजार में मंदी के दौरान एक कुशन प्रदान कर सकते हैं। दूसरा, कमोडिटी ईटीएफ में शेयर रखना कमोडिटी के भौतिक कब्जे से सस्ता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि पूर्व में बीमा और भंडारण लागत शामिल नहीं है।

  • मुद्रा ईटीएफ [Currency ETF]

करेंसी ईटीएफ पूल किए गए निवेश वाहन हैं जो घरेलू और विदेशी मुद्राओं से मिलकर मुद्रा जोड़े के प्रदर्शन को ट्रैक करते हैं। मुद्रा ईटीएफ कई उद्देश्यों की पूर्ति करते हैं। उनका उपयोग किसी देश के राजनीतिक और आर्थिक विकास के आधार पर मुद्राओं की कीमतों पर अनुमान लगाने के लिए किया जा सकता है। उनका उपयोग पोर्टफोलियो में विविधता लाने या आयातकों और निर्यातकों द्वारा विदेशी मुद्रा बाजारों में अस्थिरता के खिलाफ बचाव के रूप में भी किया जाता है। उनमें से कुछ का उपयोग मुद्रास्फीति (inflation) के खतरे से बचाव के लिए भी किया जाता है।

  • उलटा ईटीएफ [Inverse ETF]

Inverse ETF शेयरों को छोटा करके स्टॉक में गिरावट से लाभ अर्जित करने का प्रयास करते हैं। शॉर्टिंग एक स्टॉक बेच रहा है, मूल्य में गिरावट की उम्मीद कर रहा है, और इसे कम कीमत पर पुनर्खरीद कर रहा है। एक Inverse ETF स्टॉक को छोटा करने के लिए डेरिवेटिव का उपयोग करता है। अनिवार्य रूप से, वे दांव लगा रहे हैं कि बाजार में गिरावट आएगी। जब बाजार में गिरावट आती है, तो Inverse ETF आनुपातिक मात्रा में बढ़ जाता है। निवेशकों को पता होना चाहिए कि कई Inverse ETF Exchange Traded Notes (ETNs) हैं और सच्चे ईटीएफ नहीं हैं। एक ईटीएन एक बांड है लेकिन एक स्टॉक की तरह ट्रेड करता है और एक बैंक जैसे जारीकर्ता द्वारा समर्थित होता है। ईटीएन आपके पोर्टफोलियो के लिए सही है या नहीं, यह निर्धारित करने के लिए अपने ब्रोकर से संपर्क करना सुनिश्चित करें।

इंडेक्स फंड क्या है ? – What is index fund | इंडेक्स फंड्स कैसे काम करता है ?

आज हम इस के बारे मे पूरे विस्तार से चर्चा करने वाले है। यहाँ इस वेबसाइट पर आपको यथासंभव जानकारी मिल जाएगी। और हमें पूर्ण उम्मीद है कि इस लेख को पढ़ने के बाद आपके मन की सारी जिज्ञासाएँ शांत होने वाली है।

इंडेक्स फंड क्या है ? - What is index fund

इंडेक्स फंड क्या है ? – What is index fund

एक इंडेक्स फंड स्टॉक अथवा बॉन्ड का एक प्रकार का पोर्टफोलियो होता है जिसको वित्तीय बाजार index की संरचना तथा प्रदर्शन की नकल को करने हेतु डिज़ाइन किया जाता है। इंडेक्स फंड के अंतर्गत सक्रिय प्रकार से प्रबंधित फंड की तुलना में कुछ कम खर्चा तथा कुछ कम फीस होती है। यह (index funds) एक प्रकार की निष्क्रिय निवेश रणनीति का पालन करते रहते हैं।

index funds इस सिद्धांत के आधार पर बाजार के जोखिमों तथा रिटर्न का कुल मिलाकर मिलान करना चाहते हैं कि लंबी अवधि के अंतर्गत बाजार किसी एक निवेश को पछाड़ देता है।

यह एक ही प्रकार का mutual fund अथवा एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड (ETF) होता है, जिसका पोर्टफोलियो वित्तीय बाजार इंडेक्स के घटकों से मेल खाने अथवा ट्रैक करने हेतु बनाया जाता है , जैसे की स्टैंडर्ड तथा poors 500 इंडेक्स यानी (S&P 500)। एक इंडेक्स mutual fund को व्यापक बाजार जोखिम, कम परिचालन व्यय तथा कुछ कम पोर्टफोलियो टर्नओवर देने हेतु कहा गया है। ये इंडेक्स फंड बाजारों की परिस्थिति की परवाह न करते हुए स्वयं के बेंचमार्क इंडेक्स का पालन करते हैं।

इंडेक्स फंड्स में निवेश हेतु भिन्न भिन्न शेयरों को चुनने के बजाय, उन्होंने ये कहा है कि औसत निवेशक हेतु सारे S&P 500 कंपनियों को कम मूल्य पर खरीदने हेतु ये ज्यादा समझ में आता है जो कि एक प्रकार का index funds प्रदान करता है।

इंडेक्स फंड्स कैसे काम करता है ?

Indexing किसी निष्क्रिय निधि प्रबंधन का ही एक रूप होता है। जो कि एक प्रकार के फंड पोर्टफोलियो मैनेजर की जगह सक्रिय रूप से स्टॉक पिकिंग तथा मार्केट टाइमिंग अर्थात निवेश करने खातिर securities को चुनना तथा उनको किस समय खरीदना तथा बेचना होता है – फंड मैनेजर एक प्रकार का पोर्टफोलियो बनाता है, जिसकी होल्डिंग्स किसी भी एक विशेष इंडेक्स की सिक्योरिटीज को mirror करती होती हैं। मुख्य बात यह है कि सूचकांक की प्रोफाइल की नकल करकर – सम्पूर्ण शेयर बाजार, या फिर इसका एक व्यापक खंड – और फंड अपने प्रदर्शन से भी मेल खाएगा।

अस्तित्व में लगभग हर वित्तीय बाजार हेतु एक इंडेक्स तथा एक index funds होता है। संयुक्त राज्य अर्थात् अमेरिका के अंदर, सभी से ज्यादा लोकप्रिय इंडेक्स फंड S&P 500 को ट्रैक ही करते हैं।

पेशेवरों :-

  • विविधिकरण के माध्यम से कम जोखिम होता है।
  • थोड़ा कम व्यय अनुपात
  • मजबूत तथा लंबी अवधि के रिटर्न
  • निष्क्रिय तथा बा-एंड-होल्ड निवेशकों हेतु आदर्श
  • निवेशकों हेतु काम करकर।

दोष:-

  • बाजार के उतार-चढ़ाव तथा दुर्घटनाओं के प्रति संवेदनशील होता है।
  • लचीलेपन का अभाव होता है।
  • कोई मानवीय तत्व नहीं होता है।
  • सीमित लाभ ही होता है।

इन्हें भी पढ़ें

इंडेक्स फंड का उदाहरण :-

index funds के उदाहरण 1970 के दशक के आसपास ही देखे जा रहे हैं। निष्क्रिय निवेश की लोकप्रियता व कम फीस की अपील, तथा बहुत लंबे समय से चले आ रहे बुल मार्केट ने मिलकर उनको 2010 के दशक में ही आसमान को छू लिया अर्थात हासिल कर लिया।

मॉर्निंगस्टार रिसर्च के अकॉर्डिंग 2021 खातिर निवेशकों ने सभी एसेट क्लास के इंडेक्स फंड में $400 बिलियन डॉलर से भी ज्यादा का निवेश किया है। इसी अवधि हेतु, सक्रिय रूप से प्रबंधित फंडों ने $188 बिलियन डॉलर के बहिर्वाह का अनुभव किया गया।

1976 के दशक में वंगार्ड के अध्यक्ष जिनका नाम जॉन बोगल है। उनके द्वारा स्थापित कराए गए एक फंड जिसके द्वारा इसे शुरू किया गया ने अपने समग्र दीर्घकालिक प्रदर्शन तथा कम लागत हेतु सर्वश्रेष्ठ में से ही एक बना हुआ है। वैनगार्ड 500 इंडेक्स फंड ने स्ट्रक्चर तथा प्रदर्शन में S&P 500 को ईमानदारी से ट्रैक किया गया है।

Q2 2022 तक तथा, Vanguard के Admiral Shares (VFIAX) ने S&P 500 के 238.1 प्रतिशत की तुलना में 237 प्रतिशत का औसत 10- साल का संचयी रिटर्न पोस्ट किया गया, जो की एक बहुत ही छोटी सी ट्रैकिंग त्रुटि दर्शाता रहता है। अतः व्यय अनुपात 0.04 प्रतिशत होता है, तथा इसी का न्यूनतम निवेश $3,000 होता है।

निष्कर्ष :-

आज के इस आर्टिकल में हमने बात की कि इंडेक्स फंड क्या होता है? यह किस प्रकार काम करता है तथा इसके क्या क्या दोष होते हैं तथा इसके साथ ही हमने इसके पेशेवरों तथा उदाहरणों के बारे में भी चर्चा की।

मुझे पूर्ण उम्मीद है कि इन सभी पॉइंट्स को पढ़ने के बाद आपके मन की सारी आशंका दूर हो गयी होगी। यदि आपको इसके बारे मे और भी अधिक जानकारी चाहिए तो आप हमें कॉमेंट के माध्यम से बता सकते हैं। और हम भी इसकी जानकारी आपको उपलब्ध करवाएंगे।

इस अर्टिकल मे किसी भी प्रकार की त्रुटि के लिए मैं आपसे माफी चाहता हूँ। तथा शेयर बाजार से जुड़ी जानकारी प्राप्त करने के लिए हमें फॉलो करना ना भूले।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल ( FAQs )

1. क्या इंडेक्स फंड में फीस होती है?

Ans. हां इंडेक्स फंड में फीस होती है। परंतु वह प्रतिस्पर्धी उत्पादों की तुलना में आम तौर पर बहुत ही कम होती हैं। कई इंडेक्स फंड 0.2 प्रतिशत से कम ही शुल्क की पेशकश करते हैं, और कुछ सक्रिय फंड लगभग एक प्रतिशत से ज्यादा की फीस लेते हैं।

2. क्या इंडेक्स फंड स्टॉक्स से बेहतर होता है?

Ans. हां इंडेक्स फंड स्टॉक्स से बेहतर हो सकते हैं। निवेशक विविधीकरण के सकारात्मक प्रभावों से लाभान्वित होते हैं , जैसे समग्र जोखिम को कम करते हुए पोर्टफोलियो की अपेक्षित वापसी में वृद्धि।

3. क्या इंडेक्स फंड्स अच्छे निवेश होते हैं?

Ans. जहां तक देखा जाए तो लंबी अवधि के लिए इंडेक्स फंड्स अच्छे निवेश ही होते हैं। यह एक प्रकार से विविध पोर्टफोलियो प्राप्त करने के लिए कम लागत वाले विकल्प हैं जो कि एक इंडेक्स को निष्क्रिय रूप से ट्रैक करते होते हैं।

4. क्या हम इंडेक्स फंड्स से हार सकते हैं?

Ans. हाँ, हम इवेंट्स फंड से हार भी सकते हैं।

5. क्या इंडेक्स फंड्स बिगनर के लिए अच्छा होता है?

Ans. हां इवेंट फंड्स बिजनेस के लिए अच्छा भी हो सकता है और बुरा भी क्योंकि बिगनर को पहले इसके लिए अच्छा नॉलेज होना आवश्यक है। यदि बिगनर को इसके बारे में पहले पूरी जानकारी होती है तो यह बिगनर के लिए फायदेमंद हो सकता है।

पोर्टफोलियो डाइवर्सिफाई करने के लिए क्या गोल्ड ETF को चुनना चाहिए?

1 साल में इक्विटी बाजारों ने निवेशकों को तगडा रिटर्न दिया है, वहीं गोल्ड ETF में नेगेटिव रिटर्न मिला है, तो क्या गोल्ड ETF से दूर रहना बेहतर होगा.

  • Vijay Parmar
  • Publish Date - August 9, 2021 / 04:24 PM IST

पोर्टफोलियो डाइवर्सिफाई करने के लिए क्या गोल्ड ETF को चुनना चाहिए?

image: Unsplash, MCX पर सिल्वर का सितंबर डिलीवरी कॉन्ट्रैक्ट का भाव 359 रुपये या ETF काम कैसे करता है? 0.56 फीसदी गिरकर 63,233 रुपये प्रति किलो पर चला गया.

गोल्ड ETF: मार्केट में कई तरह के एक्स्चेंज ट्रेडेड फंड (ETF) है, जैसे कि गोल्ड ETF, निफ्टी ETF और सेंसेक्स ETF. गवर्मेंट के CPSE और भारत 22 ETFs भी है, जो सरकारी कंपनियों में निवेश करते है. ETF में आप BSE या NSE जैसे एक्स्चेंज पर युनिट ट्रेडिंग करने मिलता है. आज हम गोल्ड ETF के बारे में जानेंगे. गोल्ड ETF ने पिछले एक साल में 15% के करीब नेगेटिव रिटर्न दिया है. 3 साल में गोल्ड ETF ने 13-17% की रेंज में और 5 साल में 10% के करीब पॉजिटिव रिटर्न दिया है.

गोल्ड ETF क्या है?

Equitymath के फाउंडर शशांक महेता बताते हैं, “जैसे इंडेक्स फंड एक इंडेक्स को फोलो करता है वहीं ETF एक ब्रोडर केटेगरी की मिरर ईमेज बताता है. आप किसी सेक्टर या थीम में निवेश करना चाहते है तो ETF पसंद कर सकते है, जैसे गोल्ड.” पेपर गोल्ड में निवेश करने का सबसे अच्छा तरीका गोल्ड ETF खरीदना है. यह एक ओपन एंडेड म्यूचुअल फंड होता है, जो सोने की गिरते-चढ़ते भावों पर आधारित होता है. एक गोल्ड ETF यूनिट का मतलब है कि 1 ग्राम प्योर सोना.

गोल्ड ETF काम कैसे करता है?

गोल्ड ETF म्यूचुअल फंड के समान हैं जिनका स्टॉक एक्सचेंजों पर ETF काम कैसे करता है? कारोबार होता है, यानी स्टॉक एक्सचेंजों से कोई भी यूनिट खरीद और बेच सकते है. जिस तरह एक इक्विटी म्यूचुअल फंड में एक AMC द्वारा शेयरों में निवेश करने के लिए निवेशकों से धन इकट्ठा किया जाता है, वैसे ही गोल्ड ETF में शुद्ध शुद्ध सोने में निवेश होता है. आपको कम से कम एक यूनिट खरीदना जरूरी है. आप मौजूदा ट्रेडिंग खाते से ही गोल्ड ETF खरीद और बेच सकते है. गोल्ड ETF की यूनिट डीमैट खाते में जमा होती है.

गोल्ड और इक्विटी मार्केट

आमतौर पर जब इक्विटी बाजार कमजोर होता है तो सोना अच्छा रिटर्न देता है. 2011, 2016 और 2020 के बाजार सुधार के दौरान पीली धातु की कीमतों में हुई बढ़त इसके उदाहरण हैं. पिछले एक साल में भारत में गोल्ड की कीमते 13% नीचे गई है, वहीं इक्विटी मार्केट ने 44% उंचा रिटर्न दिया है. इक्विटी और अन्य संपत्तियों के साथ इसके कम सहसंबंध को देखते हुए, सोना एक अच्छा पोर्टफोलियो डायवर्सिफायर भी हो सकता है. आप पोर्टफोलियो का 5-10 प्रतिशत किसी भी समय सोने में रख सकते हैं.

क्या ध्यान रखना चाहिए

गोल्ड ETF में निवेश करने के लिए आपको तरलता, जोखिम और निवेश अवधि की आवश्यकताओं को समझना चाहिए. ऐसे फंड का एसेट साइज, ट्रैकिंग एरर, एक्सवपेंस रेशियो, इम्पैिक्टै कॉस्टत और स्पॉंट प्राइस पर डिस्काचउंट से लेकर उसके नेट एसेट वैल्यू, आदि के बारे में जानना भी बहुत जरूरी है. आपका ब्रोकर कितना बाय-सेल ब्रोकरेज लेता है और उसमें कितना स्प्रेड जोडता है वो जान लेना चाहिए.

एक्सपर्ट क्या कहते हैं?

इन्वेस्टर को अपना पोर्टफोलियो डाइवर्सिफाई करना जरूरी है, और गोल्ड का उपयोग हेजिंग के लिए किया जा सकता है. गोल्ड को पहले से ही सेफ हैवन के रूप में देखा गया है. आपको किसी भी ETF को खरीदने या बेचने में उसकी लिक्विडिटी या ट्रेडिंग वॉल्युाम पर खास ध्यामन देना चाहिए. जो गोल्ड ETF हर दिन ट्रेड होता हो और वॉल्यु्म अच्छीड हो उसे ही निवेश के लिए चुनना चाहिए.

Index Fund क्या होते हैं ?

Index Fund & ETF

Mutual fund में कई तरह के फण्ड होते हैं Index fund एक Equity Mutual fund होता हैं। इंडेक्स फण्ड शेयर बाज़ार के किसी इंडेक्स में शामिल कंपनियों के शेयर में निवेश करते हैं।index में शामिल जितने कंपनियों का weightage होता हैं उसी अनुपात में उन कंपनियों के शेयर्स खरीदे जाते हैं ये फण्ड किसी विशेष इंडेक्स की सिक्योरिटीज में समान अनुपात में निवेश करता है। ये विशेष इंडेक्स NIFTY,Auto,Pharma ,IT , FMCG आदि हो सकते हैं।

मुख्यत रूप से इंडेक्स सूचकांक NSE का निफ़्टी और BSE का सेंसेक्स हैं इनके अलावा Sectorial Index भी होते हैं जैसे की Banks का बैंक निफ़्टी , ऑटो , फार्मा ETF काम कैसे करता है? आदि सेक्टर इंडेक्स हैं जो अपनी सेक्टर की कनियो को रिप्रेजेंट करते हैं । इंडेक्स कई कंपनियों को मिलके बनाया जाता हैं जैसे की Nifty 50 टॉप 50 कंपनियों का एक बेंचमार्क इंडेक्स हैं।

Index Fund कैसे ETF काम कैसे करता है? काम करता हैं ?

इंडेक्स फण्ड लगभग उसी तरह का प्रदर्शन करता हैं जिस तरह से इंडेक्स बर्ताव करता हैं अगर इंडेक्स में तेजी हैं तोःindex फण्ड में भी तेजी रहेगी और मंदी हैं तो इंडेक्स फण्ड में भी मंदी रह सकती हैं इसलिए जिस भी इंडेक्स में निवेश किया जाता हैं वैसा ही उस फण्ड का नफा नुक्सान रहता हैं अन्य फंडों की अपेक्षा इंडेक्स फंडों के चार्ज और ट्रांजैक्शन की लागत कम होती है।

Passively Managed Fund होने के कारण Fund manger को भी किसी विशेष इंडेक्स में शामिल stock का ही इंडेक्स फण्ड बनाना होता हैं जिसमे ज्यादा Research की जरूरत नहीं होती । केवल इंडेक्स के अनुसार ही स्टॉक खरदीने पड़ते हैं।

Index Fund में कैसे निवेश करें ?

इंडेक्स फण्ड में आप ऑफलाइन या ऑनलाइन के माध्यम से भी निवेश कर सकते हैं । Index Fund में पैसा लगाने के लिये आप सिप या लुम्प्सम अमाउंट के माध्यम से भी निवेश कर सकते हैं आप विभिन बैंक्स की वेबसाइट पर जाकर mutual फण्ड (Index fund) के बारे में जानकारी पा सकते हैं या किसी एसेट मैनेजमेंट कंपनी की वेबसाइट भी चेक कर सकते हैं। इंडेक्स फण्ड में निवेश एक बेहतरीन विकलप हो सकता हैं क्यूंकि इसका परफॉरमेंस इंडेक्स बेंचमार्क से मिलता है। इंडेक्स फंडों के चार्ज और ट्रांजैक्शन की लागत कम होती है। लम्बे समय के लिया पूंजी निर्माण का एक अच्छा विकलप हैं और इसमे अच्छी कंपनियों का diversification शामिल होता हैं जिससे की रिस्क कम होता हैं।

ETF (Exchange Traded Fund) क्या होते हैं ?

ETF-Exchange Traded fund Share Market में लिस्ट और ट्रेड होने वाले फण्ड होते हैं ETF एक प्रकार का निवेश हैं जिसे स्टॉक मार्किट पर ख़रीदा और बेचा जाता हैं ETF में वैसे ही काम किया जाता हैं जैसे की शेयर बाज़ार में शेयर खरीदें और बेचे जाते हैं ETF पहले NFO की तरह पेश किए जाते हैं फिर उसके बाद ये शेयर बाज़ार मैं लिस्ट होते हैं जहाँ से इन्हे खरीद बेच सकते हैं।

ETF शेयरों के एक सेट में निवेश करते हैं। ये आमतौर पर एक खास इंडेक्स को ट्रैक करते हैं ETF में स्टॉक्स ,बांड्स, खरीदे जा सकते हैं और ट्रेडिंग डे के दौरान आसानी से बेचे जा सकते हैं

Types of ETF | ETF के प्रकार

Index ETF -Index ETF का Return और रिस्क निफ़्टी या सेंसेक्स जैसे इंडेक्स के उतार-चढ़ाव पर निर्भर करता है। क्यूंकि इंडेक्स ETF में निफ्टी या सेंसेक्स जैसे इंडेक्स होते हैं।

Bond ETF -Bond ETF के पैसे को उन बॉन्ड्स में इन्वेस्ट किए जाते हैं, जो उसके अन्तर्निहित इंडेक्स के घटकों से जुड़े होते हैं। जैसे की गवर्नमेंट, कॉर्पोरेट और पब्लिक सेक्टर यूनिट बांड्स। कुच्छ बांड ETF Maturity specific भी हो सकते हैं भारत बांड एक Maturity पीरियड के साथ आता हैं ।

Gold ETF -Gold ETF ke माध्यम से निवेशक गोल्ड में निवेश कर सकते हैं Gold ETF स्टॉक एक्सचेंज में एक ग्राम के यूनिट आकार में ट्रेड किए जाते हैं। इसकी कीमत में होने वाला बदलाव मार्केट में फिजिकल गोल्ड की कीमत में होने वाले उतार-चढ़ाव से जुड़ा होता है। ये एक सुरक्षित तरीका हो सकता हैं गोल्ड में निवेश करने का।

इन सबके अलावा सेक्टर स्पेसिफिक ETF भी होते हैं ETF पोर्टफोलियो को डायवर्सिफाई करने का एक अच्छा विकल्प हैं। क्यूंकि इसमें इंडेक्स, सेक्टर और एसेट क्लास कवर होती हैं।

ETF(Exchange Traded Fund) में कैसे निवेश करें

ETF में निवेश के लिए आपके पास डीमैट अकाउंट और ट्रेडिंग अकाउंट होना चाहिए और बैंक अकाउंट से लिंक होना चाहिए । स्टॉक ब्रोकर के माध्यम से भी आप ETF में निवेश कर सकते हो। उधारण के लिए कोटक AMC का Kotak NIFTY ETF और SBI AMC का SBI ETF NIFTY.

Q-Index Fund क्या होते हैं ?

Ans- Index fund एक Equity Mutual fund होता हैं। इंडेक्स फण्ड शेयर बाज़ार के किसी इंडेक्स में शामिल कंपनियों के शेयर में निवेश करते हैं

Q- Index Fund में कैसे निवेश करें

Ans- ऑफलाइन या ऑनलाइन के माध्यम से भी निवेश कर सकते हैं । Index Fund में पैसा लगाने के लिये आप सिप या लुम्प्सम अमाउंट के माध्यम से भी निवेश कर सकते हैं

Q- ETF (Exchange Traded Fund) क्या होते हैं ?

Ans- Share Market में लिस्ट और ट्रेड होने वाले फण्ड होते हैं ETF एक प्रकार का निवेश हैं जिसे स्टॉक मार्किट पर ख़रीदा और बेचा जाता हैं ETF में वैसे ही काम किया जाता हैं जैसे की शेयर बाज़ार में शेयर खरीदें और बेचे जाते हैं

रेटिंग: 4.96
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 697