Lucknow, UP | Survey process is ongoing. Field work has been completed. Official paperwork is underway. The report would be submitted to us by November 15: Iftikhar Ahmed Javed, Chairman UP Madrsa Education Board on Madrasa survey in ट्रेंड फील्ड सर्वे state pic.twitter.com/gGeUe39fZI— ANI UP/Uttarakhand (@ANINewsUP) November 3, 2022

ABP CVoter के सर्वे में अनुमान, UP में फिर एक बार BJP सरकार | सीधे फील्ड से

सी-वोटर के इस सबसे ताजा सर्वे का अनुमान है कि बीजेपी उत्तर प्रदेश में सत्ता में वापसी कर सकती है. सर्वे के नतीजों के मुताबिक 403 सीटों वाली यूपी विधानसभा के आने वाले चुनाव में BJP और सहयोगियों को 241 से 249 सीटें मिल सकती हैं
जबकि समाजवादी पार्टी और सहयोगियों को 130-से 138 सीटें हासिल हो सकती हैं. BSP को 15 से 19 सीटें मिलने का अनुमान है जबकि कांग्रेस को 3 से 7 सीटें मिल सकती हैं और अन्य के खाते में शून्य से 4 सीटें जा सकती हैं.

सर्वे को लेकर फील्ड में उतरे बीएलओ, मुनादी भी शुरू

सर्वे को लेकर फील्ड में उतरे बीएलओ, मुनादी भी शुरू

शहर में फेमिली आइडी बनाने को लेकर नप की ओर से सर्वे दोबारा शुरू किया गया है। शुक्रवार को बीएलओ ने काम शुरू कर दिया है। नप की ओर से वार्डों में मुनादी भी शुरू करवा दी गई है। सभी परिवारों की पहचान करने के लिए नप गंभीर हो चुकी है। शनिवार और रविवार को शहर के सभी बीएलओ निर्धारित स्कूलों में बैठ कर आइडी कार्ड बनाने का काम करेंगे।

जागरण संवाददाता, कैथल : शहर में फेमिली आइडी बनाने को लेकर नप की ओर से सर्वे दोबारा शुरू किया गया है। शुक्रवार को बीएलओ ने काम शुरू कर दिया है। नप की ओर से वार्डों में मुनादी भी शुरू करवा दी गई है। सभी परिवारों की पहचान करने के लिए नप गंभीर हो चुकी है।

शनिवार और रविवार को शहर के सभी बीएलओ निर्धारित स्कूलों में बैठ कर आइडी कार्ड बनाने का काम करेंगे। नप की ओर से 32 हजार परिवारों की पहचान करनी है जबकि अब तक करीब 24 हजार परिवारों की पहचान ही हो पाई है।

नप अधिकारियों का स्पष्ट कहना है कि अगर परिवारों ट्रेंड फील्ड सर्वे ने अपनी आइडी नहीं बनवाई तो भविष्य में सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिलेगा। सरकार और उच्च अधिकारियों के सख्त आदेश है कि जो परिवार अपनी जानकारी नहीं दे रहे हैं तुरंत जानकारी उपलब्ध करवाए। अब दो दिनों तक बीएलओ ट्रेंड फील्ड सर्वे फार्म भरेंगे और उसके बाद नप की ओर से आवेदनों को ऑनलाइन किया जाएगा।

बीएलओ ने दोबारा काम शुरू किया

नगर परिषद के कार्यकारी अधिकारी अशोक कुमार ने बताया कि बीएलओ ने दोबारा से काम शुरू कर दिया है। नप की ओर से भी लगातार वार्डों में मुनादी करवाई जा रही है। लोगों से अपील है कि जिन परिवारों ने फेमिली आइडी नहीं बनवाई है वे शनिवार और रविवार निर्धारित स्कूल में जाकर आइडी बनवा सकते हैं।

कैसे सर्वे रिपोर्ट लिखें

wikiHow's Content Management Team बहुत ही सावधानी से हमारे एडिटोरियल स्टाफ (editorial staff) द्वारा किये गए कार्य को मॉनिटर करती है ये सुनिश्चित करने के लिए कि सभी आर्टिकल्स में दी गई जानकारी उच्च गुणवत्ता की है कि नहीं।

यह आर्टिकल १०,६८४ बार देखा गया है।

सर्वे (Survey) कर लेने के बाद सर्वे रिपोर्ट (Survey Report) तैयार करनी होती हैI इस रिपोर्ट मे सर्वे, इसके रिजल्ट्स, देखे गये पैटर्न और ट्रेंड (pattern और trend) होते हैं। अधिकांश सर्वे रिपोर्ट एक ही स्टैण्डर्ड आर्गेनाइजेशन के होते हैं जो कुछ हेडिंग्स में बंटे होते हैं। हरेक सेक्शन का एक खास उद्देश्य होता है, जिसके अनुसार उसको नाम या शीर्षक देते हैं। सभी सेक्शंस को काफी ध्यान से भरें, फिर रिपोर्ट को बार बार पढ़ें ताकि कोई गलती रह ना जाये और आप एक पोलिश्ड और प्रोफेशनल (Polished और Professional) रिपोर्ट बना पायें।

नेशनल अचीवमेंट सर्वे की परीक्षा करवाने को लेकर फील्ड निरीक्षकों का प्रशिक्षण पूरा, 12 नवंबर को होगी परीक्षा

Amar Ujala Bureau

अमर उजाला ब्यूरो
Updated Thu, 11 Nov 2021 12:09 AM IST

सर्वे की परीक्षा करवाने को लेकर फील्ड इनविजेलेटरों को ट्रेनिंग देते प्रशिक्षक।

सिरसा। हरियाणा स्कूल शिक्षा परियोजना परिषद नई शिक्षा नीति में बदलाव को लेकर 12 नवंबर को नेशनल अचीवमेंट सर्वे, एनएएस की परीक्षा संचालन की तैयारियां चल रही है। जिससे लेकर बुधवार को फील्ड निरीक्षकों की ट्रेनिंग पूरी हो गई है। अब अगले चरण में ऑब्जर्वर की ट्रेनिंग होगी।
परीक्षा को सफलतापूर्वक संपन्न कराने के लिए इसकी जिम्मेदारी इस बार सीबीएसई के स्कूलों को भी साथ में जोड़ा गया है। सीबीएसई स्कूल का स्टाफ परीक्षा में ऑब्जर्वर की भूमिका निभाएगा। यह परीक्षा तीसरी, पांचवीं, आठवीं व दसवीं की कक्षा में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को चयनित कर ली जाती है। एनएएस की परीक्षा में प्रश्नों की संख्या भी कक्षा अनुसार निर्धारित की गई है। कक्षा तीसरी के लिए हिंदी, गणित व ईवीएस के 47 प्रश्न आएंगे। परीक्षा में प्रश्नों के उत्तर देने के लिए 90 मिनट का समय दिया जाएगा। कक्षा पांचवीं के लिए हिंदी, गणित व ईवीएस के 53 प्रश्न आएंगे और परीक्षा हल करने के लिए 90 मिनट का समय दिया जाएगा। कक्षा आठवीं के लिए हिंदी, गणित, साइंस व सामाजिक के 60 प्रश्न दो अलग-अलग कोड में आएंगे, जिनको करने के लिए 120 मिनट मिलेंगे। 10वीं कक्षा के लिए हिंदी, गणित, साइंस व सामाजिक के 70 प्रश्नों के चार अलग अलग कोड आएंगे, जिन्हें करने के लिए भी 120 मिनट का समय दिया जाएगा। बता दें कि वीरवार को एनएएस परीक्षा के लिए ऑब्जर्वर की ट्रेनिंग होगी। परीक्षा ट्रेंड फील्ड सर्वे में प्रश्न पत्र लाने से लेकर परीक्षा होने तक सभी कार्य ऑब्जर्वर की देखरेख में होंगे।
परीक्षा के लिए 139 स्कूलों को चुना गया
नेशनल अचीवमेंट परीक्षा के लिए जिला स्तर पर 139 स्कूलों को चुना गया है। जिसमें 213 फील्ड ट्रेंड फील्ड सर्वे निरीक्षकों की नियुक्ति की गई है। फील्ड निरीक्षक, एफआई को सुबह साढ़े सात बजे तक परीक्षा केंद्रों में पहुंचना होगा और मुखिया को रिपोर्ट करनी होगी। सुबह साढ़े आठ बजे तक पूरे परीक्षा कक्ष का निरीक्षण करना होगा और लाइट आदि के प्रबंध को सुनिश्चित करना होगा। सुबह साढ़े नौ बजे तक पर्यवेक्षक की सहायता से विद्यार्थियों का का चयन कर परीक्षा कक्षा में डेस्क पर स्टीकर लगाने होंगे।
सुबह 10 बजकर 20 मिनट पर कंट्रोल शीट के अनुसार प्रश्न पत्रों की तैयारी रखना। सुबह 10 बजकर 30 मिनट तक विद्यार्थियों को उत्तर पुस्तिका का वितरण करना होगा। सुबह साढे़ 10 बजे तीसरी, पांचवीं, आठवीं और दसवीं की परीक्षा आरंभ होगी। इसमें तीसरी और पांचवीं कक्षा की उत्तर पुस्तिकाएं 90 मिनट बाद 12 बजे और 8वीं और 10वीं की उत्तर पुस्तिकाएं 120 मिनट बाद 12:30 बजे वापस एक-एक विद्यार्थी से नंबर वाइज एकत्र की जाएंगी।
नेशनल अचीवमेंट सर्वे की परीक्षा 12 नवंबर हो आयोजित की जाएगी। जिसके लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है। परीक्षा को लेकर 213 फील्ड निरीक्षकों की ड्यूटी लगाई गई है।
-बूटा राम, डीपीसी, नोडल अधिकारी, नेशनल अचीवमेंट सर्वे एग्जाम।

सिरसा। हरियाणा स्कूल शिक्षा परियोजना परिषद नई शिक्षा नीति में बदलाव को लेकर 12 नवंबर को नेशनल अचीवमेंट सर्वे, एनएएस की परीक्षा संचालन की तैयारियां चल रही है। जिससे लेकर बुधवार को फील्ड निरीक्षकों की ट्रेनिंग पूरी हो गई है। अब अगले चरण में ऑब्जर्वर की ट्रेनिंग होगी।


परीक्षा को सफलतापूर्वक संपन्न कराने के लिए इसकी जिम्मेदारी इस बार सीबीएसई के स्कूलों को भी साथ में जोड़ा गया है। सीबीएसई स्कूल का स्टाफ परीक्षा में ऑब्जर्वर की भूमिका निभाएगा। यह परीक्षा तीसरी, पांचवीं, आठवीं व दसवीं की कक्षा में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को चयनित कर ली जाती है। एनएएस की परीक्षा में प्रश्नों की संख्या भी कक्षा अनुसार निर्धारित की गई है। कक्षा तीसरी के ट्रेंड फील्ड सर्वे लिए हिंदी, गणित व ईवीएस के 47 प्रश्न आएंगे। परीक्षा में प्रश्नों के उत्तर देने के लिए 90 मिनट का समय दिया जाएगा। कक्षा पांचवीं के लिए हिंदी, गणित व ईवीएस के 53 प्रश्न आएंगे और परीक्षा हल करने के लिए 90 मिनट का समय दिया जाएगा। कक्षा आठवीं के लिए हिंदी, गणित, साइंस व सामाजिक के 60 प्रश्न दो अलग-अलग कोड में आएंगे, जिनको करने के लिए 120 मिनट मिलेंगे। 10वीं कक्षा के लिए हिंदी, गणित, साइंस व ट्रेंड फील्ड सर्वे सामाजिक के 70 प्रश्नों के चार अलग अलग कोड आएंगे, जिन्हें करने के लिए भी 120 मिनट का समय दिया जाएगा। बता दें कि वीरवार को एनएएस परीक्षा के लिए ऑब्जर्वर की ट्रेनिंग होगी। परीक्षा में प्रश्न पत्र लाने से लेकर परीक्षा होने तक सभी कार्य ऑब्जर्वर की देखरेख में होंगे।


परीक्षा के लिए 139 स्कूलों को चुना गया
नेशनल अचीवमेंट ट्रेंड फील्ड सर्वे परीक्षा के लिए जिला स्तर पर 139 स्कूलों को चुना गया है। जिसमें 213 फील्ड निरीक्षकों की नियुक्ति की गई है। फील्ड निरीक्षक, एफआई को सुबह साढ़े सात बजे तक परीक्षा केंद्रों में पहुंचना होगा और मुखिया को रिपोर्ट करनी होगी। सुबह साढ़े आठ बजे तक पूरे परीक्षा कक्ष का निरीक्षण करना होगा और लाइट आदि के प्रबंध को सुनिश्चित करना होगा। सुबह साढ़े नौ बजे तक पर्यवेक्षक की सहायता से विद्यार्थियों का का चयन कर परीक्षा कक्षा में डेस्क पर स्टीकर लगाने होंगे।
सुबह 10 बजकर 20 मिनट पर कंट्रोल शीट के अनुसार प्रश्न पत्रों की तैयारी रखना। सुबह 10 बजकर 30 मिनट तक विद्यार्थियों को उत्तर पुस्तिका का वितरण करना होगा। सुबह साढे़ 10 बजे तीसरी, पांचवीं, आठवीं और दसवीं की परीक्षा आरंभ होगी। इसमें तीसरी और पांचवीं कक्षा की उत्तर पुस्तिकाएं 90 मिनट बाद 12 ट्रेंड फील्ड सर्वे बजे और 8वीं और 10वीं की उत्तर पुस्तिकाएं 120 मिनट बाद 12:30 बजे वापस एक-एक विद्यार्थी से नंबर वाइज एकत्र की जाएंगी।

नेशनल अचीवमेंट सर्वे की परीक्षा 12 नवंबर हो आयोजित की जाएगी। जिसके लिए सभी तैयारियां पूरी कर ट्रेंड फील्ड सर्वे ली गई है। परीक्षा को लेकर 213 फील्ड निरीक्षकों की ड्यूटी लगाई गई है।
-बूटा राम, डीपीसी, नोडल अधिकारी, नेशनल अचीवमेंट सर्वे एग्जाम।

मदरसा सर्वे: बोर्ड के अध्यक्ष बोले, फील्ड वर्क पूरा हुआ, 15 नवंबर को सौंपेंगे रिपोर्ट

मदरसा सर्वे की रिपोर्ट 15 नवंबर तक प्रदेश सरकार को सौंप दी जाएगी। सर्वे का फील्ड वर्क पूरा हो चुका है। प्रदेश में 16500 वैध मदरसे हैं।

यूपी मदरसा शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष इफ्तिखार अहमद जावेद।

उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष इफ्तिखार अहमद जावेद ने कहा कि मदरसा सर्वे का फील्ड वर्क पूरा हो चुका है। दस्तावेजों को व्यवस्थित किया जा रहा है। सर्वे रिपोर्ट 15 नवंबर को प्रशासन को सौंप दी जाएगी।

उन्होंने कहा कि हमारे लिए यह जानना जरूरी था कि मदरसों में क्या पढ़ाया जा रहा है? यहां छात्रों के लिए जरूरी सुविधाएं हैं या नहीं।

उन्होंने बताया कि इस समय प्रदेश में 16500 वैध मदरसे हैं। बीते सात वर्षों में एक भी मदरसे को मान्यता नहीं दी गई गई है।

सर्वे में इस पर ये पूछे गए सवाल
सर्वे में मुख्य रूप से यह पता किया गया कि मदरसों की आय के क्या स्रोत हैं। साथ ही भवन, ट्रेंड फील्ड सर्वे पानी, फर्नीचर, बिजली व शौचालय के क्या इंतजाम हैं और कौन संस्था संचालित करती है? इसके अलावा मान्यता की स्थिति, छात्र संख्या व उनकी सुरक्षा के इंतजाम, पाठ्यक्रम व पढ़ाने वाले शिक्षकों की संख्या जैसे विभिन्न बिंदुओं की पड़ताल की गई।

विस्तार

उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष इफ्तिखार अहमद जावेद ने कहा कि मदरसा सर्वे का फील्ड वर्क पूरा हो चुका है। दस्तावेजों को व्यवस्थित किया जा रहा है। सर्वे रिपोर्ट 15 नवंबर को प्रशासन को सौंप दी जाएगी।

उन्होंने कहा ट्रेंड फील्ड सर्वे कि हमारे लिए यह जानना जरूरी था कि मदरसों में क्या पढ़ाया जा रहा है? यहां छात्रों के लिए जरूरी सुविधाएं हैं या नहीं।

उन्होंने बताया कि इस समय प्रदेश में 16500 वैध मदरसे हैं। बीते सात वर्षों में एक भी मदरसे को मान्यता नहीं दी गई गई है।

UP | Madrasa board has not given approval to anyone for any Madrasa over the past 7 years. We have about 16,500 legal Madrasas. The survey was imp to check if they have all facilities, what is being taught: Iftikhar Ahmed Javed, Chairman UP Madarsa Education Board pic.twitter.com/v6FjsrRVsP

— ANI UP/Uttarakhand (@ANINewsUP) November 3, 2022

Lucknow, UP | Survey process is ongoing. Field work has been completed. Official paperwork is underway. The report would be submitted to us by November 15: Iftikhar Ahmed Javed, Chairman UP Madrsa Education Board on Madrasa survey in state pic.twitter.com/gGeUe39fZI

— ANI UP/Uttarakhand (@ANINewsUP) November 3, 2022

सर्वे में इस पर ये पूछे गए सवाल
सर्वे में मुख्य रूप से यह पता किया गया कि मदरसों की आय के क्या स्रोत हैं। साथ ही भवन, पानी, फर्नीचर, बिजली व शौचालय के क्या इंतजाम हैं और कौन संस्था संचालित करती है? इसके अलावा मान्यता की स्थिति, छात्र संख्या व उनकी सुरक्षा के इंतजाम, पाठ्यक्रम व पढ़ाने वाले शिक्षकों की संख्या जैसे विभिन्न बिंदुओं की पड़ताल की गई।

रेटिंग: 4.60
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 589