लाभांश वितरण कर क्या है? – Dividend Distribution Tax

What is Dividend Distribution Tax? Explained in Hindi

भारत सरकार के वित्त मंत्री का कहना है कि लाभांश वितरण कर (Dividend Distribution Tax) अब व्यक्तियों को नहीं वरन् कंपनियों को देना डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स क्या होता है? होगा.

लाभांश वितरण कर क्या है?

यह वह कर है जो किसी कम्पनी द्वारा अपने लाभ में से अंशधारकों को दिए गये लाभांश पर लगाया जाता है.

लाभांश वितरण कर से सम्बंधित प्रमुख तथ्य

  • लाभांश वितरण कर स्रोत पर लगाया जाता है और उस समय काटा जाता है जब कोई कम्पनी लाभांश वितरित करती है.
  • यह लाभांश कम्पनी के लाभ का अंश होता है और इसे अंशधारकों में बाँटा जाता है.
  • कानून के अनुसार लाभांश वितरण कर कम्पनी पर लगाया जाता है न कि लाभांश पाने वाले अंशधारक पर.
  • परन्तु यदि कोई अंशधारक किसी एक वित्तीय वर्ष में 10 लाख रु. से अधिक का लाभांश प्राप्त करता है तो उस पर एक अतिरिक्त कर थोपा जाता है.

क्या लाभांश वितरण कर निजी कम्पनियों पर लागू होता है?

आयकर अधिनियम के अनुभाग 115-O के अनुसार, कोई भी ऐसा घरेलू प्रतिष्ठान जो लाभांश घोषित करता है अथवा वितरित करता है उसे लाभांश की कुल मात्रा के 15% की दर से लाभांश वितरण कर देना होगा.

क्या लाभांश वितरण कर न्यायोचित है?

बाजार में काम करने वाले लोग, विशेषकर दलाल, बहुत दिनों से लाभांश वितरण कर (Dividend Distribution Tax – DDT) को समाप्त करने की माँग करते रहे हैं क्योंकि इससे निगमों की आय का एक बहुत बड़ा अंश चला जाता है और इस प्रकार बाजार का आकर्षण कम जाता है.

बाजार में पहले से ही कई और कर चल रहे हैं, जैसे – प्रतिभूति लेनदेन कर (Securities Transaction Tax), दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ (Long-Term Capital Gains) कर आदि.

Tags : Dividend Distribution Tax Meaning, significance, features and need in Hindi.

इस साल आपको डिविडेंड पर होने वाली इनकम पर भी देना होगा टैक्स, जानिए सभी सवालों के जवाब

डिविडेंड पर टैक्स के सभी नियम जानिए

इनकम टैक्स (Income Tax Returns) के नए नियमों के मुताबिक, अगर, अब अगर किसी को डिविडेंड मिलता है तो वो अब उसकी आमदनी में . अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated : July 31, 2020, 07:34 IST

नई दिल्ली. अगर आपने किसी कंपनी में निवेश किया है और वो कंपनी डिविडेंड (Dividend) देती है तो उस आमदनी पर इस साल टैक्स चुकाना होगा. हालांकि, 1 फरवरी 2020 को पेश किए बजट में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister of India) ने डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स (Dividend Distribution Tax) हटा दिया था. टैक्स एक्सपर्ट्स बताते हैं कि पहले कंपनियां डिविडेंड पर डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स देती थी. लेकिन अब ये निवेशकों की कुल आमदनी में जुड़ जाएगा. आइए जानें डिविडेंड और इसके टैक्स से जुड़ी सभी जरूरी बातें.

क्या होता है डिविडेंड-अगर आसान शब्दों में कहें तो किसी कंपनी को अगर मुनाफा हुआ. वो उसका कुछ हिस्सा अपने शेयरहोल्डर्स के साथ बांटती है. उसे डिविडेंड कहते हैं. जी हां, जो पैसा कंपनी ने आपसे लिया है. उससे वो बिजनेस करती है और मुनाफे में से हिस्सा आपके साथ बांटती है. लेकिन शेयरहोल्डर्स को डिविडेंड देना कंपनी के लिए अनिवार्य नहीं होता है. अगर कोई कंपनी डिविडेंड दे रही है तो गारंटी नहीं है कि आगे भी वो भी देगी. डिविडेंड देना है या नहीं कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स पर निर्भर करता है.

कितना डिविडेंड देना है, ये कंपनी की सालाना मीटिंग में तय होता है. इसे फाइनल डिविडेंड कहते हैं. अगर कंपनी वित्तीय वर्ष के बीच में ही डिविडेंड दे तो उसे इंटरिम डिविडेंड या अंतरिम लाभांश कहा जाता है. इंटरिम डिविडेंड तब दिया जाता है, जब कंपनी किसी वित्तीय वर्ष की पहली छमाही में प्रॉफिट कमाती है.

बीते वित्त वर्ष 2019-20 में डिविडेंड पर टैक्स का नियम- बीते वित्त में एक तय सीमा तक डिविडेंड टैक्स फ्री था. वहीं, लिमिट पार करते ही ये टैक्सबल हो जाता था. एक्सपर्ट्स बताते हैं कि पिछले साल तक कंपनियां डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन के तौर पर टैक्स चुकाती थी. आम निवेशकों को डिविडेंड से होने वाली सालाना 10 लाख रुपये तक की आय पर कोई भी टैक्स नहीं चुकाना होता था. लेकिन 10 लाख रुपये से ज्यादा की डिविडेंड इनकम पर उन्हें 10 फीसदी की दर से टैक्स देना होता था.

मौजूदा वित्त वर्ष यानी 2020-21 में डिविडेंड पर टैक्स का नियम- मौजूदा वित्त वर्ष में टैक्स का नियम पूरी तरह से बदल गया है. अब कंपनियों को डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स नहीं देना है. इसे बजट में हटा दिया गया है. लेकिन अब ये टैक्स आपसे वसूला जाएगा. अगर आसान शब्दों में कहें तो ये आपकी कुल आमदनी में जुड़ जाएगा. फिर उस पर स्लैब के हिसाब से टैक्स चुकाना होगा.

डिविडेंड पर कंपनियां कांटेगी अब TDS- नियम के मुताबिक, अगर आपको डिविडेंड के जरिए 5000 रुपये की आमदनी होती है तो टीडीएस नहीं कटेगा. लेकिन 5000 रुपये से ज्यादा की डिविडेंड इनकम पर 10 फीसदी की दर से टीडीएस देना होगा. लेकिन सरकर ने टीडीसी की दरें घटा दी है. इस लिहाज से 10 फीसदी की जगह 7.5 फीसदी की दर से TDS चुकाना होगा. ये दरें 14 मई 2020 से 31 मार्च 2021 तक लागू है.

इसे उदाहरण के तौर पर समझते हैं. मान लीजिए, रवि को 20 अप्रैल 2020 को 1000 शेयर पर 5.50 रुपये प्रति शेयर के हिसाब से डिविडेंड मिला तो उसकी कुल रकम 5500 रुपये होती है. लेकिन उस समय TDS की दर 10% थी. इस लिहाज उन्हें 550 रुपये TDS देना होगा. इस लिहाज से उन्हें टैक्स डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स क्या होता है? काटकर 4950 रुपये मिलेंगे.

दूसरा उदाहरण- मान लीजिए, रवि को 14 जून 2020 को 1000 शेयर पर 10 रुपये प्रति शेयर के हिसाब से डिविडेंड मिला तो उसकी कुल रकम 10 हजार रुपये होती है. लेकिन उस समय TDS की दर 10 फीसदी की दर से घटकर 7.5 फीसदी पर आ गई. इस लिहाज से उन्हें 750 रुपये काटकर 9250 रुपये मिलेंगे.

एक और जरूरी बात अगर कंपनी के पास आपके पैन कार्ड की डिटेल नहीं है तो उस पर 20 फीसदी की दर से टीडीएस कटेगा.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स क्या होता है? विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

Dividend Distribution Tax

A dividend is nothing but a distribution of a portion of a company’s earnings. A dividend distributions tax is nothing but a tax levied on the profits distributed by Indian Companies to its investors or shareholders. As per the provisions of the income tax act, the tax is levied on the company before distributing dividends.

Let’s understand this with the help of an example. Suppose A limited declared a dividend of Rs 10,00,000 for the last financial year. Below is how A Limited will be paying the dividend distribution tax:

Firstly, determine the grossed up dividend as shown below:

Rs 10,00,000 + [100/85*100] * Rs10,00,000 = Rs 11,76,500

Lastly, Calculate the dividend distribution tax on the amount calculated as per step 1 as below:

Rs 11,76,500 * 15% = Rs 1,76,475

Remember that the above calculation rate of 17.65% does not include surcharge and cess.

Scripbox Recommended Tax Saving Fund

Invest in Scripbox Tax Saver funds, get the best of both worlds – tax-saving & long-term growth.

Mirae Asset Tax Saver Fund (Growth)

DSP Tax Saver Fund (G)

Amendment made by Finance Act 2020- Abolition of DDT for Indian Companies

Up to Assessment Year 2020-21, if a shareholder gets a dividend from a domestic company, it is exempt in the hands of the shareholder. In this case, Companies were required to pay dividend distribution tax. However, the Finance Act 2020 has introduced abolition of DDT for the companies. Now the dividends are taxed in the hands of the investors.

The dividend income is taxed in the hands of the investors only if dividend is distributed on or after 01-04-2020. In this case, the entire amount will be taxable in the hands of the investors and they will be liable to pay tax on dividends. The companies will not be required डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स क्या होता है? to pay DDT.

Who is required to pay dividend distribution tax?

A domestic company is liable to pay dividend distributions tax @15% on the gross amount of dividend as per section 115O. In the case of deemed dividends u/s 2(22)(e) tax is payable @30%. Here, the dividend is exempt in the hands of the shareholder.

Dividend Distribution Tax Rate

The effective rate of dividend distribution tax is 17.65% on the amount of dividends . As per section 115O, the applicable tax rate is 15%.डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स क्या होता है?

When is DDT applicable?

As per the provisions of the income tax act, DDT has to be paid within 14 days डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स क्या होता है? of the earliest following events:

  1. Declaration of dividend
  2. Distributions
  3. Payment of dividend

If the dividend is not paid within the due date, interest is applicable @1% for every month or part thereof on the amount of such tax. The interest will be paid for the period beginning immediately after the last date on which such tax was payable and the actual date of payment.

Special provisions related to DDT

The companies are not required to pay DDT on any dividends distributed on or after 01-04-2020. Below are a few changes that need to be kept in mind:

  1. The entire dividend is now taxable in the hands डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स क्या होता है? of the shareholders.
  2. The company deducts tax under section 194 @10% is the dividend amount is above Rs. 5,000.
  3. डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स क्या होता है?
  4. Exemption under section 10(34) stands withdrawn for AY 2021-22.
  5. Provisions of section 115BBD will not be applicable.

Dividend Distribution tax in mutual funds

Dividend distribution tax is applicable on mutual funds as below:

  1. Debt-oriented funds, DDT is @25% (29.12% including surcharge and cess)
  2. Equity-oriented funds, DDT is @10% (11.64% including surcharge and cess)

Amendment as per Finance Act 2020

Post the Finance Act 2020 amendment, the dividend will now be taxable in the hands of the unitholder. The income is डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स क्या होता है? taxable as per the slab rate applicable to them. This will be the case wherein the unitholder has opted for the dividend plan.

What is the limit for dividends?

There is no set limit for paying dividends. If the company earning profits wants डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स क्या होता है? to distribute it to its shareholders, it distributes without any limits.

क्या है डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स?

डिविडेंड या लाभांश किसी कंपनी द्वारा उसके शेयरहोल्डर को किसी खास साल के लिए कमाए गए प्रॉफिट में से दिया जाने वाला हिस्सा है. इस पर लगने वाला टैक्स डीडीटी है.

क्या है डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स?

DDT

FM has hiked the DDT and also increased the surcharge. That results in an effective rate of tax of 28.33% on dividends declared by all debt funds.

2. डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स क्या है?
भारत में जब कोई कंपनी डिविडेंड के रूप में कोई रकम बांटती, चुकाती या देने की घोषणा करती है तो उस पर सरकार को 15 फीसदी का एक टैक्स चुकाना पड़ता है जिसे डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स कहा जाता है. डीडीटी का प्रावधान फाइनेंस एक्ट 1997 के तहत की गयी थी. सिर्फ घरेलू कंपनियों को ही यह टैक्स चुकाना पड़ता है. अगर कंपनी किसी टैक्स के दायरे में नहीं आती, तब भी उसे डिविडेंड देने पर डीडीटी चुकाना ही पड़ता है.

यह करंट या एक्यूमुलेटेड प्रॉफिट पर लागू होता है, जिससे डिविडेंड चुकाया गया है. किसी कंपनी द्वारा चुकाया गया डिविडेंड, उसकी सहयोगी कंपनी के प्राप्त डिविडेंड्स में से घटा दिया जाता है, अगर सहयोगी ने डीडीटी चुका दिया हो. टैक्स वास्तव में पैरेंट कंपनी द्वारा ही चुकाया जाता है, जो सहयोगी की कमाई में से होता है, अगर सहयोगी कंपनी विदेशी हो.

3. डीडीटी के ग्रोसिंग अप का मतलब क्या है?
फाइनेंस एक्ट 2014में सरकार ने डीडीटी लगाने की प्रक्रिया बदल दी थी. पहले यह डिविडेंड के रूप में चुकाई गयी नेट एमाउंट पर लगता था, ग्रॉस एमाउंट पर नहीं. इस वजह से वास्तव में टैक्स रेट 15 फीसदी से कम ही होता था. बाद में सेक्शन 115 -ओ में सुधार किया गया और डिविडेंड के ग्रॉस एमाउंट पर टैक्स लगने लगा.

4.डिविडेंड बांटने पर लगने वाले टैक्स का प्रभावी रेट क्या है?
ग्रॉसड अप एमाउंट पर एक बार सरचार्ज और सेस लगाने के बाद डीडीटी का प्रभावी रेट 20 फीसदी हो जाता है.

5. कंपनियां किस समय यह टैक्स चुकाती हैं?
डिविडेंड घोषित करने, बांटने या इसकी घोषणा के 14 दिन के अंदर कंपनियों को डीडीटी चुकाना होता है. अगर कोई कंपनी तय समय में इसे चुकाने में असफल रहती है तो इस पर हर महीने एक फीसदी का ब्याज चुकाना पड़ता है.

6. डिविडेंड पर टैक्स के प्रावधानों में हाल में क्या बदलाव हुए हैं?
साल 2016-17 के बजट में सरकार ने कहा था कि अगर किसी व्यक्ति, पार्टनरशिप फर्म या हिन्दू अविभाजित परिवार को डिविडेंड से कमाई 10 लाख रूपये से अधिक होती है तो उस पर 10 फीसदी टैक्स लगाया जायेगा. साल 2017-18 के बजट में सरकार ने इसका दायरा बढ़ाकर निजी ट्रस्ट को भी इसमें शामिल कर दिया.

रेटिंग: 4.73
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 400