CAIT ने दावा किया है कि इस पोर्टल पर सबसे सस्ती दरों पर सामान और सेवाएं मिलेंगी जो उपभोक्ताओं के लिए फायदेमंद होगी.भारत ई-मार्केट पूरी तरह से आधुनिक टेक्नोलॉजी, सशक्त डिलीवरी, इनोवेटिव मार्केटिंग, सक्षम डिजिटल पेमेंट सहित पारदर्शी एवं जिम्मेदार व्यापारिक व्यवस्था के आधार पर निर्मित किया गया है.

bharat e market kya hai hindi

Bharat E-Market क्या है?

Bharat E-Market भारत ईजीमार्केटस का सबसे पहला E-Commerce portal है जो की भारत सरकार ईजीमार्केटस के प्रयास से बनाया जा रहा है. इस यूनीक portal का मुख्य उद्देस्य ही है की कैसे वो लोकल भारतीय स्टोर को हमारे निकट तक पहुँच पाए. यानी की ईजीमार्केटस हमारे लोकल दुकानदारों को हम तक पहुँचाना वो भी इंटर्नेट के माध्यम से.

भारत की अपनी ही e-commerce portal ‘Bharat e Market’ की App को व्यापारियों की संस्था CAIT के द्वारा लॉंच किया गया है. यह नया एप्लिकेशन व्यवसायों और सेवा प्रदाताओं को पोर्टल पर पंजीकरण करने और अपना खुद का “ई-दुकान” बनाने में सक्षम करेगा.

CAIT के राष्ट्रीय अध्यक्ष BC Bhartia ने बताया की उन्होंने हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र ईजीमार्केटस मोदी की ‘ vocal for local ‘ और ‘ Aatmanirbhar Bharat ‘ से प्रेरणा लेकर इस Bharat e Market portal को तैयार किया है. ये पोर्टल दोनों B2B और B2C business को बढ़ावा देने का काम करेंगी. Confederation of All India Traders (CAIT) के अनुसार ये Bharat E-Commerce portal पूरी तरह से भारतीय है और ये हमारे देश की सभी rules और regulations का पालन भी कर रही है.

Bharat E-Market seller registration: भारत ई-मार्केट रजिस्ट्रेशन प्रोसेस

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वोकल फॉर लोकल के विजन पर आधारित रिटेल कारोबारियों के संगठन कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) ने विदेशी मल्टीनेशनल कंपनियों के ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्स अमेजन, फिल्पकार्ट आदि को चुनौती देने के लिए अब देशी ई-कॉमर्स पोर्टल ‘भारत ई-मार्केट’ लॉन्च हो गया है. इस Bharat E-Market वेबसाइट पर व्यापारी से व्यापारी मतलब B2B तथा व्यापारी से उपभोक्ता मतलब B2C के लिए व्यापार बेहद आसानी से हो सकेगा।

यह Bharat E-Market पूर्ण रूप से आधुनिक टेक्नोलॉजी, सशक्त डिलीवरी, सक्षम डिजिटल पेमेंट, इनोवेटिव मार्केटिंग सहित पारदर्शी एवं जिम्मेदार व्यापारिक व्यवस्था के आधार पर विकसित किया गया है। कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) देश के करीब आठ करोड़ कारोबारियों की संगठन है CAIT का दावा है कि Bharat E-Market (भारत ई-मार्केट) पूर्ण रूप से देशी है और यह भारत ही नहीं बल्कि विश्व के किसी भी ई-कॉमर्स पोर्टल के साथ प्रतिस्पर्धा करेगा.ईजीमार्केटस

भारत ई-मार्केट की विशेषताएं .

  • इस पोर्टलपर ‘ई-दकान’ खोलने के लिए हर व्यक्ति को मोबाइल एप के जरिये ही सबसे पहले अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा.
  • इस पोर्टल परव्यापारी से व्यापारी (बी2बी) और व्यापारी से उपभोक्ता (B2C) अपना माल बेच और खरीद सकेंगे.
  • दर्ज जानकारी विदेश नहीं जायेगी, क्योंकि यह पूरी तरह से घरेलूएप है. इसलिए सारा डेटा देश में ही रहेगा और इसे बेचा नहीं जायेगा.
  • किसी भी विदेशी फंडिंग को इस प्लेटफॉर्म के लिए स्वीकार नहीं किया जायेगा.
  • कोई भी विक्रेता चीन का सामान इस पोर्टल पर नहीं बेचेगा.
  • स्थानीय कारीगरों, शिल्पकारों और दूसरी चीजों के छोटे निर्माताओं और व्यापारियों को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय बाजार उपलब्ध कराया जायेगा
  • इस पोर्टल पर कारोबार करने पर कोई भी कमीशन नहीं लिया जायेगा.

इस पर्टल पर देश के कोई भी कारोबारी अपनी ई-दुकान (ई-शॉप) खोल सकेंगे. इसके लिए कारोबारी को मोबाइल एप के जरिये अपना रजिस्ट्रेशन करन होगा. रजिस्ट्रेशन करते समय कारोबारी के मोबाइल पर आएगा. ओटीपी के जरिये आगे बढ़ते हुए उन्हें केवाइसी प्रक्रिया को पूरी करनी होगी. इस प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद वे आसानी से अपनी ई-दुकान स्वयं बना सकता है. जरुरत पड़ने पर Bharat E-Market की तकनीकी टीम लोगो की सहायता करेगी, CAIT ने उम्मीद जाहिर की कि इस साल दिसंबर तक इस ‘भारत ई-मार्केट’ पोर्टल पर करीब सात लाख कारोबारी जुड़ जायेंगे. वही दिसंबर 2023 इस पोर्टल से एक करोड से अधिक ट्रेडर्स जुड़ जायेगे.

कैसे करे Bharat E-Market seller/Vendor रजिस्ट्रेशन

रजिस्ट्रेशन करने के लिए Bharat E-Market के वेबसाइट पर App पर जा सकते है दोनों का लिंक नीचे दिया गया है.

CAIT-bharat-e-market-official-website-भारत ई-मार्केट

जिसमे अकाउंट बनना, personal Details, Business Details, Bank Account Details, Document upload शामिल है

bharat-e-market-seller-registration-form-भारत ई-मार्केट

Bharat-e-market-seller-registration-form

रजिस्ट्रेशन की सभी प्रकिर्या पूर्ण होने के बाद seller Dasboard देखने को मेल जायेगा, जहाँ आपके अकाउंट से जुड़े सभी तरह के जानकारी मिल जायेगा.

सरकारी खरीदी प्रक्रिया को सरल बनाने ई-मार्केट प्लस एप लांच

सार्वजनिक खरीदारी सरकार की आर्थिक गतिविधियों का एक बहुत महत्त्वपूर्ण हिस्सा है| जिसके चलते सार्वजनिक खरीदारी में सुधार लाना केंद्र सरकार की पहली प्राथमिकता है। इस दिशा में गवर्नेमेंट ई-मार्केटप्लेस (Government E-Marketplace - GEM) एप सरकार ने लांच किया है। जिसका उद्देश्य उन तरीकों में बदलाव लाना है जिनमें सरकारी मंत्रालयों और विभागों, सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों और केन्द्र सरकार के अन्य शीर्ष स्वायत्त निकायों द्वारा वस्तुओं एवं सेवाओं की खरीदारी की जाती है|

डीजीएस एंड डी द्वारा इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस प्रभाग की तकनीकी मदद से उत्पादों और सेवाओं, दोनों की खरीदारी के लिए जीईएम पोर्टल को विकसित किया गया है|यह एप पूरी तरह से कागज रहित, कैशलेस है।

वर्तमान प्रणाली से काफी सुरक्षित है जीईएम: जीईएम पूरी तरह से एक सुरक्षित मंच है और इसके सभी दस्तावेजों पर खरीदारों और विक्रेताओं द्वारा ईजीमार्केटस विभिन्न चरणों में ई-हस्ताक्षर किए जाएंगे। इसके तहत आपूर्तिकर्ताओं के पूर्ववृत्तों का एमसीए 21, आधार और पैन डेटाबेस के माध्यम से ऑनलाइन सत्यापन किया जाएगा।

ई-मार्केट पोर्टल के जरिये रक्षा मंत्रालय का खरीद आदेश 15,047 करोड़ रुपये के रिकॉर्ड स्तर पर

मंत्रालय ने कहा कि पोर्टल के माध्यम से पिछले साल हुई खरीद की तुलना में यह राशि 250 प्रतिशत से अधिक है।

मंत्रालय ने एक बयान में कहा, “सरकारी ई-मार्केट (जीईएम) पोर्टल के माध्यम से रक्षा मंत्रालय द्वारा वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए खरीद आदेश अब तक के उच्चतम स्तर 15,047.98 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है।”

जीईएम की शुरुआत अगस्त 2016 में पुरानी निविदा प्रक्रिया को सुधारने और डिजिटलीकरण के माध्यम से सरकारी खरीद में अधिक ईमानदारी और पारदर्शिता लाने के लिए की गई थी।

मंत्रालय ने कहा कि अपनी स्थापना के बाद से बहुत ही कम समय में, रक्षा मंत्रालय ने डिजिटल अभियान को अपनाया है और यह इस रास्ते पर पूरी दृढ़ता के साथ आगे बढ़ा है।

रेटिंग: 4.11
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 530