Trading Tips Share Market: अगर आप ऐसे करेंगे ट्रेडिंग, तो शेयर मार्केट में कभी नहीं डूबेगा आपका पैसा

Share Market में काफी उतार-चढ़ाव चल रहा है, ऐसे में जो आदमी इसमें अपना मेहनत का पैसा लगता है, उसे काफी हद तक सतर्क रहने की जरूरत होती.

By: ABP Live | Updated at : 24 Aug 2022 03:46 PM (IST)

Edited By: Sandeep

Trading Tips In Share Market : आज के दौर में शेयर बाजार (Share Market) में काफी उतार-चढ़ाव चल रहा है, ऐसे में जो आदमी इसमें अपना मेहनत का पैसा लगता है, उसे काफी हद तक सतर्क रहने की जरूरत होती. उसे शेयर मार्केट पर बारीक़ निगाह रखनी पड़ती है, ट्रेडर्स पर निगाह गड़ाए रखना होता है. जिससे आपका पैसा मार्केट में अच्छा बैकअप दे और डूबे नहीं. आपको ट्रेंडिंग करते समय कुछ बातो का ध्यान रखते है, तो आपका शेयर मार्केट में कभी नहीं डूबेगा. ये निम्न बातें है-

  • शेयरों की खरीद-फरोख्त से पहले आपको रिसर्च करना चाहिए. इससे आसानी होगी कि किस भाव पर आपको अपनी पोजिशन को स्क्वॉयर ऑफ करना है.
  • Share Market से पैसे बनाने के लिए आपको आंकलन करना चाहिए. बाजार के रूझानों की बजाय स्पष्ट संकेत मिलने पर ट्रेडिंग करें. फंडामेंटल रूप से मजबूत कंपनी में निवेश कपना बेहतर फैसला है.
  • बाजार को लेकर सटीक अनुमान से आप बेहतर मुनाफा कमा सकते हैं. फॉरेक्स ट्रेडर्स तकनीक का जमाना आ गया है जिससे ट्रेडर्स को रीयल टाइम में मार्केट डेटा मिल जाता है.
  • Share Market में ट्रेडि्ंग पिरामिड (Trading Pyramid) अप्रोच के साथ करें. शेयर मार्केट में आपको रिस्क के बारे में पहले ही सोचना होगा कि आप कितनी पूंजी गंवाने की क्षमता रखते हैं.
  • आपको ऐसा पैसा निवेश करना होगा जिसे आप अफोर्ड कर सकते हैं. रिस्क पिरामिड (Risk Pyramid) का मतलब है कि रिस्क के हिसाब से अपनी पूंजी को बांटकर ट्रेडिंग कर सके.
  • रिस्क मैनेज के लिए जरूरी है कि आप स्टॉप लॉस (Stop Loss) का इस्तेमाल करें और लिमिट ऑर्डर क्या है? अपने प्रॉफिट को सुरक्षित करें.
  • स्टॉप लॉस का मतलब सौदा शुरू करने से पहले ऐसा प्राइस लेवल तय करना है जिसके नीचे आप रिस्क नहीं लेना चाहते हैं.
  • वहीं दूसरी तरफ टेक प्रॉफिट (Take Profit) एक लिमिट ऑर्डर है जिसका इस्तेमाल एक खास भाव पहुंचने पर मुनाफा कमाने के लिए किया जाता है.
  • अगर आप ट्रेडिंग करते हैं तो आपको एक स्ट्रेटजी के साथ मार्केट में एंट्री करनी होगी. इससे आप किस तरह से ट्रेड करते है.
  • जब आप स्ट्रेटजी के हिसाब से चलेंगे तो न सिर्फ आपका समय बचेगा बल्कि आप बड़े स्तर पर चीजों को देख-समझ सकेंगे.

ये भी पढ़ें-

News Reels

Published at : 24 Aug 2022 06:44 PM (IST) Tags: Share Market trading Share market Tips Trading Tips trading share price हिंदी समाचार, ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें abp News पर। सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट एबीपी न्यूज़ पर पढ़ें बॉलीवुड, खेल जगत, कोरोना Vaccine से जुड़ी ख़बरें। For more related stories, follow: Business News in Hindi

MAJOR MODIFICATION IN THE STOCK LIMIT ORDER IN RESPECT OF OILS AND OILSEEDS

In a consistent effort to cool down the domestic prices of Edible Oils, Government of India had issued a landmark order imposing stock limits on the oil and oilseeds put together through the Removal of Licensing Requirements, Stock Limits and Movement Restrictions on Specified Foodstuffs (Amendment) Order, 2021 effective from 08.10.2021.

Under this Order, the ceiling of stock limit quantity was left to be decided by the respective States/Union Territories on the basis of available stock of oil and oilseeds and consumption pattern of the respective State/Union Territory. Subsequently, the stock limit quantities on edible oils and oilseeds was prescribed uniformly for all states and union Territories and the order was extended upto 30th June, 2022 vide Order dated 3 rd February, 2022 . Later, the order was further extended upto 31.12.2022 vide Central Order dated 30 th March, 2022.

The Stock Limit Order was imposed in the country due to increasing prices of edible oils both in international as well as domestic market. Its high volatility was leading to hoarding, profiteering & black marketing at that time. This timely intervention by the Government had led to significant decline of the skyrocketing prices and had helped to keep a check on the hoarding, especially soyabean seeds.

It may be mentioned here that the stock limit for wholesalers and big chain retailers were based on the limits specified in the stock limit imposed in the year 2008 and it was a conscious decision to keep the quantities less . Further, at that time, big chain retailers did not exist or play any major role as compared to today.

As the price situation of major edible oils is now witnessing a gradual reversal as there is considerable decline in the prices of edible oil in the international market as well as the domestic market, the stock limit order was reviewed by the department. A need was felt for exempting big chain retailers and wholesalers from the stock control order as reports were coming that Wholesalers and big chain retail outlets were facing problems in their sale due to the Control Order as the limits specified for them was very less and replacement of shelf stocks in city limits is not possible on everyday basis.

Therefore, in a major move to further make the supply chain seamless, the Government has on Tuesday issued notification for exempting the category of Wholesalers and Big Chain retailers from the current Stock Limit order. The order will come into effect immediately.

The removal of wholesalers and big chain retailers from the stock limit order would allow them to keep various varieties and brands of edible oils, which they are unable to keep at present due to stock control order.

In view of restoration of ample supplies and continuous decline in the prices of edible oils both in the international as well as domestic market, it was an opportune time for exemption of wholesalers and Bulk consumers (big chain retailers shops) लिमिट ऑर्डर क्या है? from the stock limit control order. The removal will also have a positive effect on the oilseed prices as it will boost procurement of the oilseeds hereby increasing the returns of domestic oilseeds growing farmers.

लिमिट ऑर्डर क्या है?

Para Trader

Updated on: December 3, 2022

Stop loss kaise lagate hai ?

ट्रेडिंग तो सब करते हैं ट्रेडिंग में आपने एक शब्द तो सुना ही होगा जिसको हम कहते हैं स्टॉप लॉस ऑर्डर तो आज किस ब्लॉक पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि स्टॉप लॉस ऑर्डर क्या होता है? स्टॉप लॉस order कैसे लगाया जाता है ? और साथ ही साथ हम यह भी बताएंगे कि शॉर्ट सेलिंग में स्टॉप लॉस order कैसे लगाया जाता है?

Table of Contents

Stoploss Kya Hota Hai?

स्टॉप लॉस ऑर्डर कह सकते हैं कि ट्रेडर्स के लिए एक वरदान है जो कि उसे ट्रेडिंग करते समय बड़े लॉस होने से बचाता है बहुत सारे लोगों को स्टॉप लॉस आर्डर लगाने में दिक्कत का सामना करना पड़ता है तो आज की ब्लॉग पोस्ट में हम स्टेप वाइज बताएंगे कि स्टॉप लॉस ऑर्डर कैसे लगाया जाता है

चलिए अब जानते हैं कि स्टॉप लॉस ऑर्डर क्या होते हैं? दोस्तों स्टॉप लॉस शब्द में दो शब्द आपको साफ-साफ दिखाई दे रहे होंगे पहला है Stop जिसका मतलब होता है रोकना और दूसरा Loss जिसका मतलब होता है नुकसान यानी कि stop-loss order का मतलब हुआ ऐसा आर्डर जो नुकसान या लॉस को रोकता है

दोस्तों जब हम ट्रेडिंग करते हैं तो शेयर की प्राइस बहुत कम समय में ही तेजी से बदलती है और ऐसे में हमें तेजी से प्रॉफिट होने के साथ-साथ तेजी से लोग भी हो सकता है

अक्सर ऐसा होता है कि जब हमें प्रॉफिट होता है तब तो हम अपने ट्रेड जल्दी से क्लोज कर देते हैं पर जब हमें loss होने लगता है तो हम अपने ट्रेड इस उम्मीद में जल्दी से खोज नहीं करते कि शायद थोड़ी देर में हमें फिर से प्रॉफिट होने लगेगा या हमारा लॉस कम हो जाएगा

कई बार ऐसा होता है कि इस इंतजार में हमें और ज्यादा लॉस होता चला जाता है और आखिर में अपना एक बड़े loss के साथ close करना पड़ता है

दोस्तों एक बहुत बड़े ट्रेडर ने यह कहा है कि अगर आपको अपने छोटे लॉज बुक करने में डर लगता है तो 1 दिन आपको बहुत बड़ा लॉस उठाना पड़ेगा तो आज से ही अपने छोटे-छोटे लॉस को बुक करना सीख ले

एक आकलन ट्रेडर इस बात को अच्छी तरह से समझता है और इस वजह से ट्रेडिंग करते हुए हमेशा स्टॉपलॉस का यूज करता है ,चलिए अब जानते हैं कि स्टॉप लॉस order का इस्तेमाल कैसे किया जाता है?

Stop loss Kaise Kaam Karta Hai?

जैसे कि अगर हमने एक stock बाय कर रखा है तो हम उस पर सेलिंग स्टॉपलॉस आर्डर लगा सकते हैं अगर हमने पहले से stock sell किया हुआ है तो हम उस पर buying side पर आर्डर लगा सकते हैं

दोस्तों स्टॉप ऑर्डर एक नॉर्मल बाय ऑर्डर से थोड़ा अलग होता है नॉर्मल बाय ऑर्डर को हम सिर्फ मॉडल की तरह ही लगाते हैं हमें ऑर्डर लगाते समय ऑर्डर में trigger price करना होता है और जब trigger price पर मार्केट पर जाता है तो हमारा स्टॉप लॉस order एक्टिवेट होकर मार्केट में चला जाता है

स्टॉप लॉस order लगाने के लिए सबसे पहले हमें यह डिसाइड करना होता है कि हम अपना स्टोर पर आर्डर को मार्केट order की तरह लगाना चाहते हैं या लिमिट ऑर्डर की तरह अपने स्टाफ order को मार्केट order की तरह लगाएंगे तो हमें उस order में बसे strike प्राइस सेट करना होगा और हमें stock को ऐसे SLM स्टॉक मार्केट कहते हैं

जैसे हमारा लगाया ट्रिगर प्राइस जाएगा हमारा शॉट डा ऑडर एक्टिवेट हो जाएगा और जो भी मार्केट प्राइस होगी उस पर वह आर्डर एकजुट हो जाएगा पर अपने स्टाफ को लिमिट ऑर्डर की तरह लगाएंगे तो हमें उसमें एक के साथ एक लिमिट सेट करना होगा और हम इसे SL स्टॉप लॉस लिमिट order बोलेंगे

जैसे हमारा लगा हमारा शॉट एक्टिवेट हो जाएगा और हमारे सेट की लिमिट प्राइस पर एक और डर लग जाएगा और वह लिमिट जाने पर हमारा ऑर्डर हो जाएगा

चलिए अब कुछ उदाहरण देकर इसको अच्छे से समझते हैं

Buying स्टॉप लॉस ऑर्डर कैसे लगाया जाता है ?

  • पहले बात करते हैं स्टॉक मार्केट ऑर्डर की, मान लेते हैं कि हमने ₹100 की प्राइस मैं buy किया है और हम इस पर ज्यादा से ज्यादा ₹3 तक ही loss उठाना चाहते हैंहमने शेर पहले से ही बाइ कर रखा है इसलिए हम sell order लगाएंगे इसीलिए हम अपने शहर के selling में जाएंगे वहां पर आर्डर टाइप में SLM करेंगे इसको करने के बाद वहां पर trigger प्राइस डालने का ऑप्शन होगा

Short Selling में स्टॉप लॉस कैसे लगाएं ?

  • दोस्तों short selling के बारे में आप सब तो जानते ही होंगे short selling का मतलब है कि पहले एक share को sell कर देना फिर बाद में उस share को खरीद लो

तो दोस्तों उम्मीद करते हैं ऊपर दी गई जानकारी वैसे आपको स्टॉप लॉस पाउडर लगाना आ गया होगा तो आज की ब्लॉक पोस्ट में हमने जाना कि स्टॉपलॉस को कैसे लगाते हैं स्टॉप लॉस लगाने के क्या-क्या फायदे होते हैं और शॉर्ट सेलिंग करने में स्टॉप लॉस कैसे लगाया जाता है

25 महत्वपूर्ण स्टॉक मार्किट टर्म्स

इस ब्लॉग में, हम नए निवेशकों के लिए एक प्रारंभिक मार्गदर्शिका (Elementary guide) प्रस्तुत करने जा रहे हैं, जिससे उन्हें शेयर बाजार में उपयोग किए जाने वाले आधारभूत महत्वपूर्ण शब्दों को समझने में सहायता मिल सकेगी।

तो, आइए, प्रारंभ करते हैं:

शेयर बाज़ार क्या है?

शेयर बाजार एक प्रकार का एक्सचेंज है जो व्यापारियों को शेयरों को खरीदने और बेचने के साथ-साथ कंपनियों को नये शेयर जारी करने की अनुमति देता है

एक शेयर कंपनी की इक्विटी का प्रतिनिधित्व करता है| शेयर बाजार मुख्य रूप से दो उद्देश्यों को पूरा करता है।

सबसे पहले कंपनियों को पूंजी प्रदान करना ताकि वे अपने व्यापार के विस्तार के लिए इस फंड का उपयोग कर सकें।

इसका दूसरा उद्देश्य निवेशकों को शेयर बाजार में सूचीबद्ध कंपनियों के लाभ में हिस्सेदारी का अवसर प्रदान करना है।

अपनी आवश्यकता और पसंद के अनुसार विभिन्न ऑनलाइन वित्त पाठ्यक्रमों की एक झलक प्राप्त करें।

शेयर व्यापार की पारिभाषिक शब्दावली का क्या अर्थ है?

शेयर बाजार की पारिभाषिक शब्दावली में उद्योग-विशिष्ट शब्द शामिल होते हैं जो अक्सर उपयोग किए जाते हैं जब हम शेयर बाजार के बारे में पढ़ते हैं या बात करते हैं।

विशेषज्ञ और नए निवेशक अक्सर इन शब्दों का उपयोग रणनीतियों, चार्ट, सूचकांक और शेयर बाजार के अन्य तत्वों के बारे में बात करने के लिए करते हैं।

नीचे शेयर बाजार में अक्सर उपयोग किए जाने वाले आधारभूत शब्दों की एक प्रारंभिक मार्गदर्शिका दी गई है:

1. खरीदना – इसका अर्थ है कि शेयरों को खरीदना या किसी कंपनी में स्थान प्राप्त करना।

2. बेचना – शेयरों से छुटकारा पाना क्योंकि आपने अपना लक्ष्य प्राप्त कर लिया है या आप हानि को कम करना चाहते हैं।(घाटे में कटौती करना चाहते हैं।)

3. आस्क – इसका अर्थ है कि जो लोग अपने शेयरों को बेचना चाहते हैं वे अपने शेयरों के लिए कितना मूल्य प्राप्त करना चाहते हैं।

4. बिड – बिड वह है, जो आप एक शेयर को खरीदने के लिए भुगतान करने के लिए तैयार हैं।

5. आस्क-बिड स्प्रेड- स्प्रेड यह अंतर है कि लोग क्या खर्च करना चाहते हैं और लोग क्या प्राप्त करना चाहते हैं

6. बुल – एक बुल मार्केट, एक बाजार स्थिति है जहां निवेशक मूल्यों के बढ़ने की उम्मीद करते हैं।

7. बेयर – एक बेयर बाजार, एक बाजार स्थिति है जहां निवेशक मूल्यों में गिरावट की उम्मीद करते हैं।

8. लिमिट ऑर्डर – एक लिमिट ऑर्डर एक प्रकार का ऑर्डर है, जो खरीदने या बेचने के लिए तय किए गए मूल्य पर निष्पादित होता है।

9. मार्केट ऑर्डर – एक मार्केट ऑर्डर एक प्रकार का ऑर्डर है जो बाजार मूल्य पर जल्द से जल्द निष्पादित करता है।

10. डे ऑर्डर – एक डे ऑर्डर एक ब्रोकर के लिए दिशा-निर्देश है कि एक ट्रेड को लिमिट ऑर्डर क्या है? उस विशिष्ट मूल्य पर निष्पादित करे जो कि ट्रेडिंग दिवस के अंत में समाप्त होता है, यदि यह जटिल नहीं है।

11. वोलाटिलिटी – इसका अर्थ है कि एक शेयर कितनी तेजी से उठता या गिरता है।

12. गोइंग लॉन्ग – शेयरों के मूल्य पर सट्टेबाजी बढ़ेगी जिससे आप कम खरीद सकते हैं और अधिक बेच सकते हैं।

13. एवरेजिंग डाउन – यह तब होता है जब एक निवेशक किसी गिरते हुए शेयर को खरीदता है, जिससे कि खरीदे गए मूल्य को बढ़ाया जा सके।

14. पूंजीकरण – यह बाजार के अनुसार कंपनी का मूल्य होता है|

15. फ्लोट – यह उन शेयरों की संख्या है जिनका इनसाइडर के पास रखे शेयरों को हटाने के बाद, ठीक-ठीक व्यापार किया जा सकता है।

16. अधिकृत शेयर – यह उन शेयरों की कुल संख्या है, जिनका एक कंपनी व्यापार कर सकती है।

17. आईपीओ – ​​यह एक प्रारंभिक सार्वजनिक प्रस्ताव है जो तब होता है जब एक निजी कंपनी सार्वजनिक रूप से व्यापार करने वाली कंपनी बन जाती है।

18. द्वितीयक प्रस्ताव – यह अधिक शेयरों को बेचने और जनता से अधिक धन जुटाने के लिए एक अन्य प्रस्ताव है।

19. लाभांश – कंपनी की आय का एक भाग जो शेयरधारकों को भुगतान किया जाता है।

20. ब्रोकर – एक ब्रोकर वह व्यक्ति होता है जो आपकी ओर से शेयरों खरीदता या बेचता है।

21. एक्सचेंज – एक एक्सचेंज वह स्थान है जहां विभिन्न प्रकार के निवेश किए जाते हैं।

22. पोर्टफोलियो – आपके द्वारा किए गए निवेशों का एक संग्रह।

23. मार्जिन – मार्जिन खाता किसी व्यक्ति को शेयर खरीदने के लिए ब्रोकर से धन उधार लेने देता है।

24. सेक्टर – एक ही सेक्टर में शेयरों का समूह।

25. स्टॉक सिंबल – यह एक से तीन अक्षरों तक का एक प्रतीक होता है, जो एक्सचेंज में सूचीबद्ध कंपनी को प्रदर्शित करता है।

शेयर बाजार की उपरोक्त पारिभाषिक शब्दावली के बारे में जानने से आप एक बेहतर व्यापारी बन जाएंगे।

प्रतिभूतियों के व्यापार की जटिलताओं को समझने के लिए समय के साथ-साथ समर्पण भी चाहिए होता है, लेकिन जब इसे आप करते हैं, तो शेयर व्यापार की पारिभाषिक शब्दावली आपकी दैनिक शब्दावली का एक हिस्सा बन जाएगी।

Subscribe To Updates On Telegram Subscribe To Updates On Telegram Subscribe To Updates On Telegram

सपोर्ट और रेजिस्टेंस लेवल के आधार पर ट्रेडिंग

This Holi, add colours of Diversification to your Portfolio

Elearnmarkets

Elearnmarkets (ELM) is a complete financial market portal where the market experts have taken the onus to spread financial education. ELM constantly experiments with new education methodologies and technologies to make financial education effective, affordable and accessible to all. You can connect with us on Twitter @elearnmarkets.

रेटिंग: 4.19
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 678