Forex Reserves: भारतीय विदेशी मुद्रा भंडार 600 अरब डॉलर के पार, जानिए क्या है विदेशी मुद्रा भंडार

भारत का विदेशी मुद्रा भंडार अप्रैल के बाद सबसे अधिक बढ़ा है। 27 मई को समाप्त सप्ताह में भारत का विदेशी मुद्रा भंडार लगभग 3.9 अरब डॉलर बढ़कर 600 अरब डॉलर से अधिक हो गया। विदेशी मुद्रा भंडार में हुई बढ़ोतरी देश के लिए एक अच्छा संकेत है।

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। भारतीय विदेशी मुद्रा में इजाफा हुआ है। 27 मई को समाप्त सप्ताह में भारत का विदेशी मुद्रा (FX) भंडार लगभग 3.9 बिलियन डॉलर बढ़कर 600 बिलियन डॉलर से अधिक हो गया। यह राहत भरी खबर तब आई, जब ग्लोबल मार्केट में फ्यूल की कीमतें काफी बढ़ी हुई हैं।

एक महीने से अधिक समय तक 600 बिलियन डॉलर से नीचे रहने और लगातार 10 सप्ताह तक गिरने के बाद देश का आयात कवर लगातार दूसरे सप्ताह बढ़ा है। यह ऐसे समय में आया है, जब रुपये में कई बार उतार-चढ़ाव देखा गया। इस समय रुपया 77.61 डॉलर पर कारोबार कर रहा है। एक माह पहले रुपया 76 रुपये प्रति डॉलर पर कारोबार कर रहा था। आरबीआई के साप्ताहिक सांख्यिकीय आंकड़ों से पता चला है कि 27 मई के सप्ताह में देश का विदेशी मुद्रा भंडार 3.854 अरब डॉलर बढ़कर 601.363 अरब डॉलर हो गया।

विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफपीआइ) ने इस महीने अब तक शेयर बाजारों में 4,500 करोड़ रुपये का निवेश किया है।

क्या कहते हैं जानकार

डॉयचे बैंक में फॉरेक्स रिसर्च के ग्लोबल चीफ जॉर्ज सरवेलोस ने रॉयटर्स को बताया कि डॉलर एक सुरक्षित-हेवन जोखिम प्रीमियम का मूल्य निर्धारण कर रहा है, जो समय के साथ बना रहता है और अब न खत्म होने की प्रक्रिया में है। लेकिन, विश्लेषकों का तर्क है कि अमेरिकी फेडरल रिजर्व का कड़ा चक्र यूरोप की तुलना में मजबूत विकास पर है। विश्लेषकों का मानना है कि रूसी तेल प्रतिबंध के बाद यूरो क्षेत्र की अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचा सकता है।

भारत ने नवंबर में लगातार दूसरे माह रूस से खरीदा सबसे ज्यादा कच्चा तेल। फाइल फोटो।

13 मई को हुई थी 2.676 बिलियन डॉलर की गिरावट

बता दें कि 13 मई को समाप्‍त हुए सप्‍ताह में भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में 2.676 बिलियन डॉलर की गिरावट दर्ज की गई थी। वहीं, 3 सितंबर 2021 को भारत का Forex Reserve सर्वकालिक उच्‍च स्‍तर 642.453 बिलियन डॉलर के स्‍तर पर पहुंच गया था। इसके बाद इसमें काफी तेजी से गिरावट दर्ज की गई। हालांकि, अब भारत का आयात कवर 600 बिलियन डॉलर से अधिक हो गया है, जो एक स्वस्थ्य संकेत है।

Elon Musk says increase in us federal reserve rate hike will lead to recession

क्या है विदेशी मुद्रा भंडार?

विदेशी मुद्रा (Foreign Currency) या विदेशी मुद्रा भंडार (Foreign Currency Reserve) अनिवार्य रूप से भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा विदेशी मुद्राओं में आरक्षित के रूप में रखी गई संपत्ति है, जिसका इस्तेमाल आर्थिक संकट में किया जाता है। आमतौर पर इसका यूज एक्सचेंज दर का समर्थन करने और मौद्रिक नीति बनाने के लिए किया जाता है। भारत के मामले में विदेशी मुद्रा भंडार में डॉलर, सोना और विशेष आहरण अधिकारों के लिए अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष का कोटा शामिल है। कुछ केंद्रीय बैंक अपने अमेरिकी डॉलर के भंडार के अलावा ब्रिटिश पाउंड, यूरो, चीनी युआन या जापानी येन को भी अपने भंडार में रखते हैं।

महामारी पॉजिटिव ग्रोथ: भारत का फॉरेक्स रिजर्व पहली बार 600 अरब डॉलर के पार पहुंचा, जानिए क्या हैं इसके मायने?

देश का विदेशी मुद्रा भंडार यानी फॉरेक्स रिजर्व पहली बार 600 अरब डॉलर का आंकड़ा पार कर गया है। रिजर्व बैंक (RBI) के मुताबिक 4 जून के समाप्त हफ्ते में यह 605 अरब डॉलर रहा, जो 28 मई तक 598 अरब डॉलर था। इस लिहाज से हफ्तेभर में फॉरेक्स रिजर्व में 6.84 अरब डॉलर की बढ़त दर्ज की गई।

फॉरेक्स रिजर्व में बढ़ोतरी से इकोनॉमी को फायदा
IIFL सिक्योरिटीज के अनुज गुप्ता बताते हैं कि भारत का फॉरेक्स रिजर्व बढ़ने का सीधा सा मतलब है कि देश की आर्थिक स्थिति मजबूत हो रही है। दुनियाभर में फॉरेक्स रिजर्व के लिहाज से भारत 5वें स्थान पर है, जबकि चीन पहले पायदान पर है। अगर रिजर्व में लगातार बढ़ोतरी जारी रही तो भारत दुनियाभर के टॉप-3 देशों में शुमार हो जाएगा।

रुपए की मजबूती और एक्सपोर्ट फॉरेक्स में एक प्रसार क्या है? बढ़ने से देश का फॉरेक्स रिजर्व बढ रहा
उन्होंने कहा कि भारत का विदेश मुद्रा भंडार इसलिए बढ़ा है क्योंकि एक्सपोर्ट बढ़ा है। वहीं, इंपोर्ट घटा है। इसके लिए अलावा डॉलर के मुकाबले रुपए की मजबूती भी सपोर्ट कर रही है। खाने के तेल और कच्चे तेल दोनों के इंपोर्ट में भी कमी आई है।

फॉरेक्स रिजर्व बढ़ने से आम लोगों को भी फायदा
अनुज कहते हैं कि फॉरेक्स बढ़ने से आम लोगों को भी फायदा मिलता है। इससे सरकारी योजनाओं में खर्च करने के लिए पैसा मिलता है।

बता दें कि हर सप्ताह RBI विदेशी मुद्रा रिजर्व के आंकड़े जारी करता है। इसमें डॉलर के साथ पाउंड और येन रिजर्व के आंकड़े को भी शामिल किया जाता है। RBI की हालिया MPC बैठक में गवर्नर शक्तिकांता दास ने भी कहा था कि 4 जून को फॉरेक्स रिजर्व 600 अरब डॉलर को पार कर गया होगा।

भास्कर एक्सप्लेनर: जीडीपी में गिरावट के बावजूद विदेशी मुद्रा भंडार अब तक के उच्चतम स्तर पर, क्या है इसकी वजह और यह देश के लिए कितना फायदेमंद?

देश का विदेशी मुद्रा भंडार अगस्त के आखिरी हफ्ते में 541.43 बिलियन डॉलर (39.77 लाख करोड़ रुपए) पर पहुंच गया है। एक सप्ताह में इसमें 3.88 बिलियन डॉलर (28.49 हजार करोड़ रुपए) की बढ़ोतरी हुई है। इससे पहले 21 अगस्त को समाप्त हुए सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 537.548 बिलियन डॉलर (39.49 लाख करोड़ रुपए) था। जून में पहली बार विदेशी मुद्रा भंडार 500 बिलियन डॉलर के आंकड़े को पार करते हुए 501.7 बिलियन डॉलर (36.85 लाख करोड़ रुपए) पर पहुंचा था। 2014 में देश का विदेशी मुद्रा भंडार 304.22 बिलियन डॉलर (22.34 लाख करोड़ रुपए) था। इस समय पड़ोसी देश चीन का विदेशी मुद्रा भंडार 3.165 ट्रिलियन डॉलर के करीब है।

इसलिए बढ़ रहा है विदेशी मुद्रा भंडार

  • आर्थिक मंदी के बावजूद विदेशी मुद्रा भंडार बढ़ने का सबसे बड़ा कारण भारतीय शेयर बाजारों में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) बढ़ना है।
  • बीते कुछ महीनों में विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने कई भारतीय कंपनियों में हिस्सेदारी बढ़ाई है।
  • मार्च में भारत के डेट और इक्विटी सेगमेंट से एफपीआई ने करीब 1.20 लाख करोड़ रुपए की निकासी की थी, लेकिन इस साल के अंत तक अर्थव्यवस्था के वापस पुरानी स्थिति में लौटने की उम्मीद के कारण एफपीआई भारतीय बाजारों में वापस आ गए हैं।
  • इसके अलावा क्रूड की कीमतों में गिरावट के कारण देश का आयात बिल कम हुआ है। इससे विदेशी मुद्रा भंडार का बोझ घटा है। इसी तरह से विदेशों से रुपया भेजने और विदेश यात्राओं में कमी आई है। इससे भी विदेशी मुद्रा भंडार पर बोझ कम हुआ है।
  • वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 20 सितंबर 2019 को कॉरपोरेट टैक्स की दरों में कटौती की घोषणा की थी। इसके बाद से विदेशी मुद्रा भंडार में लगातार बढ़ोतरी हो रही है।

जीडीपी में गिरावट के बावजूद विदेशी मुद्रा भंडार का बढ़ना अच्छा संकेत

कोरोनावायरस महामारी के कारण वैश्विक स्तर पर अर्थव्यवस्था में उदासी का माहौल है। इस कारण चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही (अप्रैल-जून तिमाही) में देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 23.9 फीसदी की गिरावट आई है। मैन्युफैक्चरिंग गतिविधियों और व्यापार में स्थिरता के कारण यह गिरावट आई है। ऐसे में विदेशी मुद्रा भंडार में बढ़ोतरी देश की अर्थव्यवस्था के लिए एक अच्छा संकेत है।

आज 1991 के विपरीत स्थिति

विदेशी मुद्रा भंडार की आज की यह स्थिति 1991 के बिलकुल विपरीत है। तब भारत ने प्रमुख वित्तीय संकट से बाहर निकलने के लिए गोल्ड रिजर्व को गिरवी रख दिया था। मार्च 1991 में देश का विदेशी मुद्रा भंडार केवल 5.8 बिलियन डॉलर (42.59 हजार करोड़ रुपए) था। लेकिन आज विदेशी मुद्रा भंडार के दम पर देश किसी भी आर्थिक संकट का सामना कर सकता है।

विदेशी मुद्रा भंडार के प्रमुख असेट्स

  • फॉरेन करेंसी असेट्स (एफसीए)।
  • गोल्ड रिजर्व।
  • स्पेशल ड्रॉइंग राइट्स (एसडीआर)।
  • इंटरनेशनल मॉनिटरी फंड (आईएमएफ) के साथ देश की रिजर्व स्थिति।

विदेशी मुद्रा भंडार का अर्थव्यवस्था के लिए महत्व

  • विदेशी मुद्रा भंडार में बढ़ोतरी सरकार और आरबीआई को आर्थिक ग्रोथ में गिरावट के कारण पैदा हुए किसी भी बाहरी या अंदरुनी वित्तीय संकट से निपटने में मदद करती है।
  • यह आर्थिक मोर्चे पर संकट के समय देश को आरामदायक स्थिति उपलब्ध कराती है।
  • मौजूदा विदेशी भंडार देश के आयात बिल को एक साल तक संभालने के लिए काफी है।
  • विदेशी मुद्रा भंडार में बढ़ोतरी से रुपए को डॉलर के मुकाबले स्थिति मजबूत करने में मदद मिलती है।
  • मौजूदा समय में विदेशी मुद्रा भंडार जीडीपी अनुपात करीब 15 फीसदी है।
  • विदेशी मुद्रा भंडार आर्थिक संकट के बाजार को यह भरोसा देता है कि देश बाहरी और घरेलू समस्याओं से निपटने में सक्षम है।

आरबीआई करता है विदेशी मुद्रा भंडार का प्रबंधन

  • आरबीआई विदेशी मुद्रा भंडार के कस्टोडियन और मैनेजर के रूप में कार्य करता है। यह कार्य सरकार से साथ मिलकर तैयार किए गए पॉलिसी फ्रेमवर्क के अनुसार होता है।
  • आरबीआई रुपए की स्थिति को सही रखने के लिए विदेशी मुद्रा भंडार का इस्तेमाल करता है। जब रुपया कमजोर होता है तो आरबीआई डॉलर की बिक्री करता है। जब रुपया मजबूत होता है तब डॉलर की खरीदारी की जाती है। कई बार आरबीआई विदेशी मुद्रा भंडार को बढ़ाने के लिए बाजार से डॉलर की खरीदारी भी करता है।
  • जब आरबीआई डॉलर में बढ़ोतरी करता है तो उतनी राशि के बराबर रुपया जारी करता है। इस अतिरिक्त लिक्विडिटी को आरबीआई बॉन्ड, सिक्योरिटी और एलएएफ ऑपरेशन के जरिए मैनेज करता है।

कहां रखा होता है विदेशी मुद्रा भंडार

  • आरबीआई एक्ट 1934 विदेशी मुद्रा भंडार को रखने का कानूनी ढांचा प्रदान करता है।
  • देश फॉरेक्स में एक प्रसार क्या है? का 64 फीसदी विदेशी मुद्रा भंडार विदेशों में ट्रेजरी बिल आदि के रूप में होता है। यह मुख्य रूप से अमेरिका में रखा होता है।
  • आरबीआई के डाटा के मुताबिक, मौजूदा समय में 28 फीसदी विदेशी मुद्रा भंडार दूसरे देशों के केंद्रीय बैंक और 7.4 फीसदी कमर्शियल बैंक में रखा है।
  • मार्च 2020 में विदेशी मुद्रा भंडार में 653.01 टन सोना था। इसमें से 360.71 टन सोना विदेश में बैंक ऑफ इंग्लैंड और बैंक फॉर इंटरनेशनल सेटलमेंट्स की सुरक्षित निगरानी में रखा है। बचा हुआ सोना देश में ही रखा है।
  • डॉलर की वैल्यू में विदेशी मुद्रा भंडार में सोने की हिस्सेदारी सितंबर 2019 के 6.14 फीसदी से बढ़कर मार्च 2020 में 6.40 फीसदी पर पहुंच गई है।

2014 में 300 बिलियन डॉलर के करीब था विदेशी मुद्रा भंडार

आरबीआई के डाटा के मुताबिक, वित्त वर्ष 2014 में देश का विदेशी मुद्रा भंडार 304.22 बिलियन डॉलर (22.34 लाख करोड़ रुपए) था। इसी साल नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बने थे। तब से लगातार विदेशी मुद्रा भंडार में बढ़ोतरी हो रही थी। 2018 में यह बढ़कर 424.5 बिलियन डॉलर (31.13 लाख करोड़ रुपए) पर पहुंच गया था। हालांकि, इसके अगले साल यानी 2019 में यह थोड़ा घटकर 412.87 बिलियन फॉरेक्स में एक प्रसार क्या है? डॉलर (30.26 लाख करोड़ रुपए) पर पहुंच गया था। 28 अगस्त को समाप्त हुए सप्ताह में यह बढ़कर 541.4 बिलियन डॉलर (39.77 लाख करोड़ रुपए) पर पहुंच गया है।

चीन का विदेशी मुद्रा भंडार भारत से 484% ज्यादा

पड़ोसी देश चीन का विदेशी मुद्रा भंडार भारत के मुकाबले कहीं ज्यादा है। अगस्त 2020 में चीन का विदेशी मुद्रा भंडार 3.165 ट्रिलियन डॉलर था। वहीं, भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 541.4 बिलियन डॉलर है। इस फॉरेक्स में एक प्रसार क्या है? प्रकार चीन का विदेशी मुद्रा भंडार भारत के मुकाबले 484 फीसदी ज्यादा है। 2014 में चीन का विदेशी मुद्रा भंडार 4 ट्रिलियन डॉलर के करीब पहुंच गया था। हालांकि, तब से अब तक इसमें गिरावट आ रही है।

इस साल 19.33 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंचा क्रूड

इस साल 1 जनवरी को अंतरराष्ट्रीय बाजार में ब्रेंट क्रूड की कीमत 66 डॉलर प्रति बैरल थी। इसी सप्ताह 6 जनवरी को कीमतें बढ़कर 68.91 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच गई थीं। इसके बाद से क्रूड की कीमतें लगातार कम हो रही है। इस बीच मार्च के अंत में कोरोनावायरस महामारी पूरी दुनिया फैल गई। इससे क्रूड की मांग घट गई थी। इसका नतीजा यह हुआ कि क्रूड की कीमत घटकर 19.33 बिलियन डॉलर तक पहुंच गई। इस प्रकार क्रूड की कीमतों में इस साल अपने उच्चतम स्तर से 71 फीसदी तक की गिरावट दर्ज की गई है। सोमवार 7 सितंबर को यह 42.05 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार कर रहा है।

फोरेक्स ट्रेडिंग ऑनलाइन

एक बाजार जो दैनिक मात्रा में लगभग $ 5.2 ट्रिलियन को आकर्षित करता है, जिसे दुनिया के फॉरेक्स में एक प्रसार क्या है? सबसे बड़े बाजार के रूप में मान्यता प्राप्त है, जो विश्व स्तर पर 24 घंटे उपलब्ध है - बिल्कुल यही मुद्रा बाज़ार होता है। छोटी मार्जिन आवश्यकताओं और कम प्रवेश बाधाओं का लाभ इसे खुदरा निवेशक के पोर्टफोलियो का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनाता है।

  • फ्यूचर्स, ऑप्शन में ट्रेड
  • छोटी मार्जिन आवश्यकताएँ
  • नियंत्रित विनियमन
  • पोर्टफोलियो का विविधीकरण
  • जोखिम से बचाव
  • निवेश, व्यापार, बचाव, अनुमान लगाना

मुद्रा व्यापार के लिए हमें क्यों चुनें

  • लाभ -4 गुना एक्सपोजर
  • सुरक्षित व्यापार अनुभव
  • वैयक्तिकृत फॉरेक्स में एक प्रसार क्या है? सूचना
  • कुशल जोखिम प्रबंधन
  • समर्पित सलाहकार दल

अभी डीमैट खाता खोलें!

Loading.

मुद्रा और विदेशी मुद्रा बाजार की अनुशंसाएं

No data at this time

Loading.

Latest Report

Currency Daily

Currency Daily

Currency Daily

Currency Daily

Loading.

एडुएम.ओ वीडियो

गहन, विस्तृत अध्याय। आसानी से सीखने के लिए वीडियो और ब्लॉग। मजेदार, प्रभावी और सहायक

ब्लॉग्स

8 Important Components Of Currency Trading

Currency Trading A Way To Make A Living From Anywhere In The World

8 Key Elements Of Currency Trading

मुद्रा संबंधी एफ.ए.क्यू

व्यापार डेरिवेटिव के लिए न्यूनतम निवेश कितना है?

यह कदम तब आया जब बाज़ार नियामक सेबी ने छोटे निवेशकों को उच्च जोखिम वाले उत्पादों से बचाने के प्रयास में वर्तमान में किसी भी इक्विटी डेरिवेटिव उत्पाद के लिए न्यूनतम निवेश आकार में 2 लाख रुपए से 5 लाख रुपए तक की बढ़ोतरी की।

करेंसी ट्रेडिंग इन इंडिया क्या है और मैं मुद्रा व्यापार कैसे शुरु करूँ?

विदेशी मुद्रा व्यापार, एक मुद्रा का दूसरे में रूपांतरण है। यह दुनिया के सबसे सक्रिय रूप से कारोबार किए जाने वाले बाज़ारों में से एक है, जिसमें औसत दैनिक व्यापार की मात्रा 5 ट्रिलियन डॉलर है।

मैं ऑनलाइन फोरेक्स ट्रेडिंग कैसे कर सकता हूँ?

सभी मुद्रा व्यापार जोड़े में किया जाता है। शेयर बाज़ार के विपरीत, जहाँ आप एकल स्टॉक खरीद या बेच सकते हैं, आपको एक मुद्रा खरीदनी होगी और दूसरी मुद्रा को विदेशी मुद्रा बाज़ार में बेचना होगा। इसके बाद, लगभग सभी मुद्राओं का मूल्य चौथे दशमलव बिंदु तक होगा। बिंदु में प्रतिशत व्यापार की सबसे छोटी वृद्धि है।

भारत में मुद्रा का व्यापार कैसे कर सकता हूँ?

सभी मुद्रा व्यापार जोड़े में किया जाता है। शेयर बाज़ार के विपरीत, जहाँ आप एकल स्टॉक खरीद या बेच सकते हैं, आपको एक मुद्रा खरीदनी होगी और दूसरी मुद्रा को विदेशी मुद्रा बाज़ार में बेचना होगा। इसके बाद, लगभग सभी मुद्राओं का मूल्य चौथे दशमलव बिंदु तक होगा। बिंदु में प्रतिशत व्यापार की सबसे छोटी वृद्धि है।

विदेशी मुद्रा व्यापार से लाभ प्राप्त कैसे करें?

विदेशी मुद्रा व्यापार आपको मुनाफ़ा दे सकती है यदि आप असामान्य रूप से कुशल मुद्रा व्यापारी के साथ धनराशि को छुपा कर रखते हैं। हालांकि इसका अर्थ यह लगाया जा सकता है कि मुद्राओं में व्यापार करते समय तीन में से एक व्यापारी का पैसा नहीं डूबता, लेकिन यह समृद्ध व्यापार विदेशी मुद्रा प्राप्त करने के समान नहीं है।

क्या विदेशी मुद्रा व्यापार में कोई जोखिम कारक शामिल है?

विदेशी मुद्रा व्यापार में मुद्रा जोड़े का व्यापार शामिल है। कोई भी निवेश जो संभावित लाभ प्रदान करने का प्रस्ताव रखता है उसमें भी मार्जिन पर व्यापार करते समय अपने लेनदेन के मूल्य से बहुत अधिक खोने के बिंदु तक डाउनसाइड जोखिम होता है।

भारतीय विदेशी मुद्रा क्या है?

भारत के आर्थिक सर्वेक्षण 2014-15 में कहा गया कि भारत 750 बिलियन यू.एस डॉलर से 1 ट्रिलियन डॉलर तक के विदेशी मुद्रा भंडार को लक्षित कर सकता है। दिसंबर 2019 तक, भारत के विदेशी मुद्रा भंडार मुख्य रूप से यू.एस सरकारी बॉन्ड और संस्थागत बॉन्ड के रूप में यू.एस डॉलर के साथ सोने में लगभग 6% विदेशी संचय से बने हैं ।

रेटिंग: 4.25
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 867