विदेशी मुद्रा भंडार करीब दो साल के निचले स्‍तर पर पहुंचा (फाइल फोटो)

अंतर्राष्ट्रीय संस्थान/संगठन

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष 189 सदस्य देशों वाला एक संगठन है जिनमें से प्रत्येक देश का इसके वित्तीय महत्त्व के अनुपात में अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष के कार्यकारी बोर्ड में प्रतिनिधित्व हैं। इस प्रकार वैश्विक अर्थव्यवस्था में जो देश अधिक शक्तिशाली है उस देश सबसे लाभदायक विदेशी मुद्रा रणनीति क्या है? के पास अधिक मताधिकार है।

लगातार तीसरे हफ्ते बढ़ा विदेशी मुद्रा भंडार, 550 अरब डॉलर को किया पार

मुंबईः देश का विदेशी मुद्रा भंडार में 25 नवंबर को समाप्त सप्ताह के दौरान लगातार तीसरे हफ्ते बढ़त सबसे लाभदायक विदेशी मुद्रा रणनीति क्या है? में रहा। सप्ताह के दौरान विदेशी मुद्रा भंडार 2.9 अरब डॉलर बढ़कर 550.14 अरब डॉलर पर पहुंच गया। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।

आरबीआई के आंकड़ों के अनुसार, 18 नवंबर को समाप्त सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 2.54 अरब डॉलर बढ़कर 547.25 अरब डॉलर पर पहुंच गया था। अगस्त, 2021 सबसे लाभदायक विदेशी मुद्रा रणनीति क्या है? के बाद देश के विदेशी मुद्रा भंडार में इस सप्ताह सबसे सबसे लाभदायक विदेशी मुद्रा रणनीति क्या है? तेज वृद्धि हुई है।

गौरतलब है कि अक्टूबर, 2021 में विदेशी मुद्रा भंडार 645 अरब डॉलर के सर्वकालिक उच्चस्तर पर पहुंच गया था। वैश्विक घटनाक्रमों के बीच केंद्रीय बैंक के रुपए की विनियम दर में तेज सबसे लाभदायक विदेशी मुद्रा रणनीति क्या है? गिरावट को रोकने के लिए मुद्रा भंडार का उपयोग करने की वजह से इसमें कमी आई है। केंद्रीय बैंक ने कहा कि कुल मुद्रा भंडार का अहम हिस्सा माने जाने वाली विदेशी मुद्रा आस्तियां (एफसीए) 25 नवंबर को समाप्त सप्ताह में तीन अरब डॉलर बढ़कर 484.28 अरब डॉलर हो गईं। इसके अलावा स्वर्ण भंडार का मूल्य आलोच्य सप्ताह में 7.3 करोड़ डॉलर की गिरावट के साथ 39.938 अरब डॉलर रह गया।

आंकड़ों के अनुसार, विशेष आहरण अधिकार (एसडीआर) 2.5 करोड़ डॉलर घटकर 17.88 अरब डॉलर रह गया। आंकड़ों के अनुसार, समीक्षाधीन सप्ताह में अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) में रखा देश का मुद्रा भंडार भी 1.4 करोड़ डॉलर घटकर 5.03 अरब डॉलर रह गया।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

इन महीनों में शुभ होता है नया घर बनाना! अपार सुख-संपत्ति की होती है प्राप्ति

इन महीनों में शुभ होता है नया घर बनाना! अपार सुख-संपत्ति की होती है प्राप्ति

राजस्थान के फतेहपुर में न्यूनतम तापमान 1.4 डिग्री सेल्सियस

राजस्थान के फतेहपुर में न्यूनतम तापमान 1.4 डिग्री सेल्सियस

आज जिनका जन्मदिन है, जानें कैसा रहेगा आने वाला साल

आज जिनका जन्मदिन है, जानें कैसा रहेगा आने वाला साल

ऐतिहासिक विषयों पर बनी मौजूदा फिल्में काल्पनिक अंधराष्ट्रवाद में डूबी हुई हैं : अमिताभ बच्चन

ऐतिहासिक विषयों पर बनी मौजूदा फिल्में काल्पनिक अंधराष्ट्रवाद में डूबी हुई हैं : अमिताभ बच्चन

तेज धमाके के साथ भरभराकर गिरी मकान की दीवारें और छत, मलबे में दबकर महिला की दर्दनाक मौत

23 महीने के सबसे निचले स्‍तर पर पहुंचा विदेशी मुद्रा भंडार, 7.94 अरब डॉलर की बड़ी गिरावट

भारतीय रिजर्व बैंकी (RBI) के आंकड़ों के मुताबिक, 2 सितंबर को सबसे लाभदायक विदेशी मुद्रा रणनीति क्या है? समाप्त सप्ताह के लिए भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 7.941 बिलियन डॉलर घटकर 553.105 बिलियन डॉलर हो गया है।

23 महीने के सबसे निचले स्‍तर पर पहुंचा विदेशी मुद्रा भंडार, 7.94 अरब डॉलर की बड़ी गिरावट

विदेशी मुद्रा भंडार करीब दो साल के निचले स्‍तर पर पहुंचा (फाइल फोटो)

विदेशी मुद्रा भंडार में करीब दो साल में गिरावट हुई है। भारतीय रिजर्व बैंकी (RBI) के आंकड़ों के मुताबिक, 2 सितंबर को समाप्त सप्ताह के लिए भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 7.941 बिलियन डॉलर घटकर 553.105 बिलियन डॉलर हो गया, जो करीब दो वर्षों में सबसे निचला स्तर पर आ चुका है। देश के विदेशी मुद्रा भंडार में यह 5वें साप्‍ताह के दौरान लगातार गिरावट है।

देश के विदेशी मुद्रा भंडार में हाल के महीनों में तेजी से गिरावट आई है। ऐसा इस कारण, क्योंकि आरबीआई ने रुपए को तेजी से गिरने को बचाने के लिए मुद्रा बाजार में हस्‍तक्षेप किया था और कदम उठाए सबसे लाभदायक विदेशी मुद्रा रणनीति क्या है? सबसे लाभदायक विदेशी मुद्रा रणनीति क्या है? थे, जिसका असर सीधे तौर पर विदेशी मुद्रा भंडार पर पड़ा है। इससे पहले, आरबीआई के आंकड़ें के अनुसार, 26 अगस्त को समाप्त सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 3.007 अरब डॉलर और पिछले सप्ताह 6.687 अरब डॉलर घट गया था।

भारतीय रिजर्व बैंक के सप्‍ताहिक आंकडे़ं के अनुसार, विदेशी मुद्रा संपत्ति जो कि विदेशी मुद्रा भंडार का सबसे बड़ा घटक है, 2 सितंबर को समाप्त सप्ताह के दौरान 6.527 अरब डॉलर घटकर 492.117 अरब डॉलर हो गई थी। वहीं पिछले दो सप्ताह में विदेशी मुद्रा संपत्ति में क्रमश: 2.571 अरब डॉलर और 5.779 अरब डॉलर की गिरावट आई थी।

Kapiva का दावा- 18000 फीट ऊंचाई वाले क्षेत्रों से 100% शुद्ध हिमालयी शिलाजीत लाते हैं हम, जान‍िए जबर्दस्त ताकत के लिए कैसे कारगर होता है यह हर्बल फार्मूला

Kapoor Family Education: सबसे ज्यादा एजुकेटेड हैं रणबीर की सबसे लाभदायक विदेशी मुद्रा रणनीति क्या है? बहन रिद्धिमा, जानिए कितना पढ़ी लिखी है कपूर फैमिली

अमेरिकी डॉलर में विदेशी मुद्रा भंडार में गिरावट दर्ज की की गई है। वहीं विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियों में यूरो, यूके के पाउंड स्टर्लिंग और जापानी येन जैसी गैर-डॉलर मुद्राओं में नुकसान और कुछ में लाभ हुआ है। वहीं 2 सितंबर को समाप्त सप्ताह के दौरान सोने के भंडार का प्राइज 1.339 अरब डॉलर घटकर 38.303 अरब डॉलर पर जा चुका है।

आरबीआई के आंकड़ों के मुताबिक, इस गणना किए गए सप्‍ताह के दौरान इंटरनेशनल मुद्रा कोष में भारत के स्‍पेशल ड्राविंग राइट्स (एसडीआर) का प्राइज 50 मिलियन डॉलर घटकर 17.782 अरब डॉलर रह गया। वहीं 2 सितंबर को समाप्त सप्ताह के दौरान अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) में भारत की रिजर्व स्‍टेटस 24 मिलियन डॉलर घटकर 4.902 बिलियन डॉलर हो गई है।

देश का विदेशी मुद्रा भंडार लगातार दूसरे हफ्ते बढ़कर 547.25 अरब डॉलर पर

नई दिल्ली/मुंबई। आर्थिक र्मोचे (economic front) पर सरकार के लिए राहत देने वाली खबर है। विदेशी मुद्रा भंडार (foreign exchange reserves) में लगातार दूसरे हफ्ते इजाफा हुआ है। देश का विदेशी मुद्रा भंडार 18 नवंबर को समाप्त हफ्ते में 2.सबसे लाभदायक विदेशी मुद्रा रणनीति क्या है? 537 अरब डॉलर बढ़कर ($ 2.537 billion increased) 547.252 अरब डॉलर ($ 547.252 billion) पर पहुंच गया है।

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) (Reserve Bank of India (RBI)) की ओर से शुक्रवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक विदेशी मुद्रा भंडार 18 नवंबर को समाप्त हफ्ते में 2.537 अरब डॉलर बढ़कर 547.252 अरब डॉलर पर पहुंच गया। इससे पिछले हफ्ते 11 नवंबर को समाप्त हफ्ते में विदेशी सबसे लाभदायक विदेशी मुद्रा रणनीति क्या है? मुद्रा भंडार 14.73 अरब डॉलर बढ़कर 544.72 अरब डॉलर के पार पहुंच गया था। रिजर्व बैंक के मुताबिक अगस्त, 2021 के बाद देश के विदेशी मुद्रा भंडार में इस हफ्ते सबसे तेज वृद्धि हुई थी।

यह भी पढ़ें | गुजरात फॉर्मूला हिट होने से भाजपा में नए चेहरों ने बढ़ाई सक्रियता

रिजर्व बैंक के आंकड़ों के मुताबिक इस दौरान मुद्रा भंडार का अहम घटक विदेशी मुद्रा आस्तियां (एफसीए) 1.76 अरब डॉलर बढ़कर 484.288 अरब डॉलर हो गई। हालांकि, स्वर्ण भंडार का मूल्य भी 31.5 करोड़ डॉलर की बढ़ोतरी के सबसे लाभदायक विदेशी मुद्रा रणनीति क्या है? साथ 40.011 अरब डॉलर पर पहुंच गया। आंकड़ों के मुताबिक विशेष आहरण अधिकार(एसडीआर) 35.1 करोड़ डॉलर बढ़कर 17.906 अरब डॉलर हो गया। इसके अलावा अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) में रखा देश का मुद्रा भंडार भी 11.1 करोड़ डॉलर बढ़कर 5.047 अरब डॉलर हो गया।

उल्लेखनीय है कि अक्टूबर 2021 में विदेशी मुद्रा भंडार 645 अरब डॉलर के सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच गया था लेकिन 2022 की शुरुआत में देश का विदेशी मुद्रा भंडार करीब 630 अरब डॉलर था। रिजर्व बैंक ने वैश्विक घटनाक्रम के बीच रुपये की विनियम दर में तेज गिरावट को रोकने के लिए मुद्रा भंडार का उपयोग किया था, जिससे इसमें कमी आई थी। (एजेंसी, हि.स.)

रेटिंग: 4.90
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 259